class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैच रेफरी ने कोटला-पिच की कडी़ रिपोर्ट आईसीसी को सौंपी

मैच रेफरी ने कोटला-पिच की कडी़ रिपोर्ट आईसीसी को सौंपी

भारत और श्रीलंका के बीच फिरोजशाह कोटला मैदान पर पांचवां वनडे रद्द होने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के मैच रेफरी एलन हर्स्ट ने पिच की स्थिति के बारे में एक कडी़ रिपोर्ट क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था आईसीसी को सौंपी है।

हर्स्ट ने पिच के बारे में जानकारी दी है कि कोटला की पिच को देखकर कहीं से भी नहीं लग रहा था कि यह अंतराष्ट्रीय स्तर की पिच है और जब तक मैच हुआ तब तक खिलाडी़ इस बात को लेकर अनिश्चितता की अवस्था में थे कि पता नहीं पिच कैसा व्यवहार करेगी। हर्स्ट ने कोटला की पिच को खराब श्रेणी का बताया।

हर्स्ट ने कहा कि पिच के असमान व्यवहार को देखकर तो अच्छे खिलाडि़यों का आत्मविश्वास भी डोल जाता। इस पिच पर गेंद कब उछाल ले ले और कब यह नीची रह जाए, इस बारे में भी कोई अनुमान नहीं लगाया जा सकता था, इसलिए अंतरराष्ट्रीय स्तर की दृष्टि से यह तो बिलकुल ही खराब विकेट था।

मैच रेफरी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि मैच से एक दिन पहले शनिवार की सुबह जब चौथे अंपायर सुब्रत दास ने मैदान का निरीक्षण करने के बाद बताया कि पिच पर काफी घास है लेकिन बाद में क्यूरेटर ने मुझे बताया कि बाद में पिच पर रोलिंग की जाएगी जिससे पिच का रंग हरा से भूरा हो जाएगा, लेकिन बावजूद इसके जब मैंने अंपायरों के साथ दोपहर बाद जब पिच का निरीक्षण किया तो पिच के रंग में किसी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं आया था उसका रंग पहले जैसा ही हरा था।

मैच रेफरी ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि श्रीलंकाई कोच ट्रेवर बेलिस और मैनेजर ब्रैंडन कुरूप ने भी लगभग 24 ओवर तक चले मैच के दौरान ही दो बार उनसे पिच की खराब स्थिति को लेकर बात की और खिलाडि़यों को चोट लगने की वजह से चिकित्सीय सहायता के लिए मैच तीन बार रोकना पडा़।

उन्होंने कहा है कि श्रीलंकाई खिलाडि़यों ने भी छह बार अंपायरों से पिच की स्थिति को लेकर शिकायत की जिसके बाद दोनों अंपायरों एस तारापोर तथा एम इरास्मस ने उनसे बात की और फिर दोनों टीमों के कप्तानों से इस बारे में बात की गई।

हर्स्ट ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि इसके बाद मैंने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ के अध्यक्ष अरुण जेटली, कोषाध्यक्ष नरेंद्र बत्रा, उपाध्यक्ष चेतन चौहान तथा बीसीसीआई के सचिव एन श्रीनिवासन से बात की। उन्होंने लिखा है कि इसके बाद उन्होंने डीडीसीए उपाध्यक्ष के साथ जाकर बगल वाली पिच का निरीक्षण किया ताकि मैच को पूरा किया जा सके लेकिन श्रीलंकाई कप्तान कुमार संगकारा तथा भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी दोनों ही इस पर सहमत नहीं हुए।

आईसीसी ने मैच रेफरी की रिपोर्ट बीसीसीआई को भेज दी है। और ऐसे कयास लगाए जा रहें हैं कि जिस तरह की कडी़ रिपोर्ट हर्स्ट ने आईसीसी को पेश की है उसके बाद संभव है कि दिल्ली क्रिकेट विश्वकप 2011 के मैचों की मेजबानी नहीं कर सके क्योंकि कोटला पर 18 माह का प्रतिबंध लग सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैच रेफरी ने कोटला-पिच की कडी़ रिपोर्ट आईसीसी को सौंपी