class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार में नवंबर तक 12,160 लोगों को सजा मिली

बिहार की वर्तमान राजग सरकार द्वारा प्रदेश में अपराध पर काबू पाने के लिए वर्ष 2006 में आपराधिक मामलों के शुरू किए गए स्पीडी ट्रायल के तहत इस वर्ष नवंबर महीने तक कुल 12,160 लोगों को सजा सुनाई गई, जिनमें से 12 को फांसी और 1654 को उम्रकैद की सजा सुनाई गई।

बिहार के अपर पुलिस महानिदेशक (मुख्यालय) यूएस दत्ता ने बताया कि इस वर्ष नवंबर महीने तक कुल 12,160 लोगों को सजा सुनाई गई, जिनमें 12 को फांसी और 1654 को उम्रकैद, 340 को दस वर्ष से अधिक और 10,154 को दस वर्ष से कम की सजा सुनाई गई।

पटना: दत्ता ने बताया कि इस वर्ष नवंबर महीने तक जिन 12,160 लोगों को सजा सुनाई गई, उनमें प्रदेश की राजधानी पटना सबसे आगे है। यहां इस साल नवंबर महीने तक 1281 लोगों को विभिन्न मामलों में सजा सुनाई गई।

नालंदा: सजा के मामले में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पैतृक जिला नालंदा दूसरे स्थान पर है जहां 1082 लोगों को सजा सुनाई गई।

बेगूसराय और मुजफ्फरपुर: सजा सुनाए जाने के मामले में बिहार में बेगूसराय जिला तीसरे और मुजफ्फरपुर चौथे स्थान पर रहा, जहां क्रमश: 798 एवं 721 लोगों को सजा सुनाई गई।

बिहार की नीतीश कुमार सरकार द्वारा शुरू किए गए आपराधिक मामलों के त्वरित निष्पादन के अंतर्गत वर्ष 2006 से लेकर नवंबर 2009 तक बिहार की विभिन्न त्वरित न्यायालयों द्वारा 40,859 अपराधियों को सजा सुनायी जा चुकी है, जिनमें 95 को फांसी, 7518 को उम्रकैद, 1996 को दस वर्ष के अधिक और 31,250 को दस वर्ष से कम की सजा सुनाई जा चुकी है।

दत्ता ने बताया कि बिहार में वर्ष 2006 के दौरान बिहार में कुल 6839 लोगों को सजा सुनाई गई, जिसमें से 17 को फांसी, 1389 को उम्रकैद, 366 को दस वर्ष के ज्यादा और 5067 को दस वर्ष से कम की सजा सुनायी गई।

उन्होंने बताया कि बिहार में वर्ष 2007 में कुल 9853 अपराधियों को सजा सुनाई गई थी, जिनमें से 39 को फांसी, 2168 को उम्रकैद, 680 को दस वर्ष के अधिक और 9063 को दस वर्ष से कम की सजा सुनाई गई।

दत्ता ने बताया कि वर्ष 2008 में अपराधी ठहराए गए लोगों में से 27 को फांसी और 2307 को उम्रकैद, 610 को दस वर्ष के अधिक और 9063 को दस वर्ष से कम की सजा सुनाई गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिहार में नवंबर तक 12,160 लोगों को सजा मिली