class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बॉलीवुड के नए चेहरों को मिली पहचान

हर साल की तरह बीते वर्ष भी कई नए चेहरों ने हिंदी सिनेमा के दरवाजे पर दस्तक दी और अपनी सिनेमाई यात्रा शुरू की। इनमें से अधिकतर की फिल्में ज्यादा दमदार तो साबित नहीं हुईं लेकिन अध्ययन सुमन, माही गिल, जैकी भगनानी, श्रुति हसन जैसे नवोदित कलाकारों को पहचान जरूर मिली। रूपहले पर्दे पर इस साल आए करीब डेढ़ दर्जन नए चेहरों में से कुछ फिल्म निर्माता, निर्देशक या अभिनेताओं के पुत्र-पुत्री हैं तो कुछ मॉडलिंग या छोटे पर्दे की दुनिया से इस ओर आए हैं। कुछ चेहरे इंडस्ट्री के लिए बिल्कुल नए हैं, जिन्होंने छोटे शहरों से मुंबई का रूख किया है।

अध्ययन सुमन
फिल्म अभिनेता और एंकर शेखर सुमन के बेटे अध्ययन सुमन ने फिल्म 'राज-द मिस्ट्री कंटीन्यूज' से अपनी पारी की शुरूआत की। अध्ययन की यह फिल्म ज्यादा सफल तो नहीं रही लेकिन लोगों के बीच अध्ययन की पहचान जरूर बन गई। वैसे अध्ययन पिछले साल फिल्म हाल-ए-दिल में छोटी सी भूमिका कर चुके हैं लेकिन प्रमुख किरदार उन्होंने राज और इसके बाद जश्न में अदा किया। फिल्म आलोचकों ने अध्ययन के बारे में कहा कि वह नकारात्मक भूमिकाओं में अच्छी पहचान बना सकते हैं।

श्रुति हासन
बड़े स्टार की पुत्र-पुत्रियों में एक नाम श्रुति हासन का भी है। प्रसिद्ध अभिनेता कमल हासन और हिंदी फिल्मों की जानी-मानी अभिनेत्री सारिका की बेटी श्रुति मूल रूप से गायिका हैं। श्रुति अपने पिता की 2000 में आई फिल्म 'हे राम' में एक छोटी सी भूमिका अदा कर चुकी थीं, लेकिन शीर्ष भूमिका उन्होंने इस साल आई फिल्म 'लक' में की।
   
माही गिल और कल्की
अनुराग कश्यप की फिल्म देव डी से हिंदी फिल्मों का सफर शुरू करने वाली पंजाबी अभिनेत्री माही गिल के काम को फिल्म समीक्षकों ने सराहा। माही ने इसके बाद गुलाल और आगे से राइट में भी काम किया। देव डी में ही कल्की कोएचलिन ने भी पहली बार काम किया। मॉडलिंग से इस ओर रूख करने वाली कल्की के माता-पिता फ्रांसीसी मूल के हैं।

जैकी भगनानी   
नए प्रभावशाली चेहरों में निर्माता वासु भगनानी के बेटे जैकी भगनानी का नाम भी लिया जा सकता है। वासु ने अपने बेटे को दमदार तरह से प्रस्तुत करने के लिए फिल्म कल किसने देखा रिलीज की। हालांकि फिल्म ज्यादा नहीं चल सकी। इसी फिल्म में फिल्म निर्माता मनमोहन देसाई की भतीजी वैशाली देसाई को भी पहली बार अभिनय का मौका मिला।
   
शाजान पदमसी
एड गुरु एलेक पदमसी और शैरोन प्रभाकर की बेटी शाजान पदमसी भी हाल ही में प्रदर्शित फिल्म रॉकेट सिंह में रणबीर कपूर के साथ दिखाई दीं। वह मॉडलिंग भी करती रहीं हैं।
   
गिजेल मोंटीरो
कुछ विदेशी अदाकाराओं ने भी इस साल हिंदी फिल्मों का दामन थामा। इनमें लव आज कल में सैफ अली खान के साथ पंजाबी युवती का किरदार करने वाली गिजेल मोंटीरो शामिल हैं। ब्राजीली मॉडल गिजेल का कहना है कि उन्हें फिल्मों के प्रस्ताव मिल रहे हैं और वह चुनिंदा फिल्मों में काम करेंगी।

जैकलीन
अमिताभ बच्चन, संजय दत्त और रितेश देशमुख अभिनीत अलादीन से श्रीलंकाई सुंदरी जैकलीन फर्नांडीज ने हिंदी फिल्मों की ओर रूख किया। जैकलीन मिस श्रीलंका 2006 रह चुकी हैं।

अयान अहमद
फिल्म निर्देशक तनवीर अहमद के बेटे अयान अहमद ने यूं तो निर्देशक बनने की चाह में इंडस्ट्री में कदम रखा था लेकिन उन्होंने अपनी पारी फिल्म अदा में अभिनय के साथ शुरू की है।
   
छोटे से बड़े पर्दे पर
कुछ चेहरे छोटे पर्दे से भी फिल्मों की तरफ आए हैं। टीवी के दर्शकों के बीच गहरी पैठ बनाने वाली आमना शरीफ और नौशीन अली सरदार का नाम इनमें शामिल है। धारावाहिक कहीं तो होगा की कशिश के तौर पर पहचान पाने वाली आमना ने कॉमेडी फिल्म आलू चाट से बड़े पर्दे पर पहुंच बनाई। उन्होंने इसके बाद आफताब शिवदासानी के साथ फिल्म आओ विश करें में भी काम किया। हालांकि लगता है कि छोटे पर्दे की इस चहेती अभिनेत्री को बड़े पर्दे पर पांव जमाने में अभी समय लगेगा।

धारावाहिक कुसुम की शीर्ष अदाकारा नौशीन अली सरदार ने विक्रम भटट की थ्री- लव, लाइज एंड ब्रिटेयल से सिनेमा जगत में पदार्पण किया। टीवी पर लोकप्रिय रहे संगीत रियलिटी शो इंडियन आइडल के एक सीजन के विजेता रहे अभिजीत सावंत को भी इस साल मार्च में प्रदर्शित फिल्म लॉटरी में काम करने का मौका मिला, हालांकि फिल्म कुछ ज्यादा पहचान हासिल नहीं कर सकी


इसी साल आयी फिल्म बाबर तो नहीं चल सकी लेकिन इसमें नवोदित अभिनेता सोहम शाह की संवाद अदायगी की तारीफ हुई। अन्य कुछ नए नामों में मानसी डोभाल, रूचा गुजराती, मनीषा केलकर, शीना शाहबादी, अनुज चौधरी और हितेश अग्रवाल हैं।

मानसी को आस्मा, शाबास में देखा गया, वहीं रूचा और मनीषा ने लॉटरी में काम किया। रूचा गुजराती छोटे पर्दे के धारावाहिक भाभी की सुहाना का किरदार अदा कर चुकी हैं। सूरत से अभिनेता बनने का सपना लेकर मायानगरी आए हितेश अग्रवाल को भी शाबास में पहला मौका मिला, वहीं अनुज चौधरी ने फिल्म स्ट्रेट में काम किया। शीना को तेरे संग में पहली बार अभिनय का अवसर मिला।

नन्हें कलाकार
इन सबके साथ परजान दस्तूर और आयशा कपूर के नाम भी लिए जा सकते हैं। जो वैसे तो बाल कलाकारों के तौर पर पहले ही दर्शकों के बीच अपने अभिनय की छाप छोड़ चुके हैं लेकिन कुछ दिन पहले आई फिल्म सिकंदर में इन दोनों को और परिपक्व किरदारों में देखा गया।
याद कीजिए फिल्म कुछ-कुछ होता है के नटखट सिख बालक को, या मोहब्बतें और कभी खुशी कभी गम में चुलबुले किरदार करने वाले बच्चे को। इसी बालक परजान ने जम्मू कश्मीर में आतंकवाद की पष्ठभूमि में बनी सिकंदर में शीर्ष भूमिका अदा की है। वहीं संजय लीला भंसाली की ब्लैक में जबरदस्त अभिनय करने वाली आयशा भी सिकंदर में परजान के साथ फिर बड़े पर्दे पर लौटीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बॉलीवुड के नए चेहरों को मिली पहचान