class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वाह! भा रहा है मॉल कल्चर

भारत के मानचित्र पर अलीगढ़ की उपस्थिति भले ही छोटी हो पर ताला उद्योग व अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने इसे अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाई है। चंद वर्षो में ही अलीगढ़ ने कई नए आयाम स्थापित किए हैं। यहाँ मॉल कल्चर ने भी अपनी दस्तक दे दी है और लोगों को ब्रांडेड कपड़े लुभा रहे हैं।

पिछले कुछ वर्षो में बनीं बड़ी-बड़ी इमारतें इस शहर के प्रगति की गाथा गा रही हैं। कुछ वर्ष पूर्व तक शहरवासियों के लिए शॉपिंग मॉल किसी सपने से कम नहीं हुआ करता था। खरीदारी करने के लिए लोगों के पास सीमित विकल्प होते थे। शहर के पुराने और व्यस्ततम बाजार रेलवे रोड, महावीर गंज, सेन्टर प्वाइंट में लोगों को खरीदारी करने के लिए आना पड़ता था।

पिछले कुछ समय में शहर में खुले शोरूम और मॉल ने लोगों की पुरानी सोच बदली है।  अलीगढ़ की रहने वाली सीमा अग्रवाल पेशे से फैशन डिजाइनर हैं और जयपुर में जॉब करती हैं। वह कहती हैं कि पहले अलीगढ़ में शॉपिंग करना बोरिंग लगता था। यहाँ ब्रांडेड कपड़ों के शोरूम व मॉल नहीं थे।

वह कहती हैं कि देखते ही देखते अलीगढ़ ने काफी प्रगति की और यहाँ अब ब्रांडेड कपड़ों के शोरूम व मॉल भी खुल गए हैं। जून में शहर में पहला शॉपिंग मॉल बनकर तैयार हुआ। ब्रांडेड कपड़े, ज्वैलरी और सौन्दर्य प्रसाधन सामग्री खरीदने वालों ने मॉल को काफी पसंद किया है।

अगले कुछ साल में कई और मॉल खुलने जा रहे हैं। इसमें सेन्टर प्वाइंट पर शारदा मॉल, रामघाट रोड पर बीकानेर वाला और ग्रेट शॉपिंग वैल्यू मॉल प्रमुख है। एएमयू और मंगलायतन यूनिवर्सिटी के चलते यहाँ छात्रों की आबादी की वजह से इंटरनेशनल फास्टफूड, ब्रांडेड कपड़े, जूतों के रूप में धीरे-धीरे उपभोक्ता संस्कृति पैर जमा रही है।

ब्लैकबेरी, केलिन एंड कैलविन, कॉटंस, एरो, ली, रेंग्लर, ली सोली, ली कूपर सहित आदि ब्रांडेड कंपनियों के कपड़े अब यहाँ आसानी से मिल सकते हैं। एडिडास, रेड चीफ और लोटो ब्रांड के शोरूम भी यहाँ उपलब्ध हैं।

इन कंपनियों के प्रति खासतौर से युवा पीढ़ी प्रभावित है। तनिष्क और डी डमास जैसी प्रमुख कंपनियों की ज्वैलरी के शोरूम खुलने से लोगों की पसंद पुराने सर्राफा बाजार से निकलकर इन शोरूम तक पहुँच चुकी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वाह! भा रहा है मॉल कल्चर