class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेहतर परिणाम के लिए लगेंगी अतिरिक्त कक्षाएं

यूपी माध्यमिक बोर्ड के परीक्षा परिणाम में बढ़ोत्तरी के लिए इस बार हाई स्कूल और इंटर के शिक्षकों को अतिरिक्त कक्षाएं लेने के निर्देश जारी किए गए हैं। उन्हीं स्कूलों व इंटर कालेजों में अतिरिक्त कक्षाएं लगेंगी, जहां कोर्स बाकी रह गए हैं।

डीआईएसओ ने बताया कि प्री बोर्ड परीक्षा के एक माह पहले से अतिरिक्त कक्षाओं के लिए स्कूल प्रशासन को सख्त दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। पिछली बार के मुकाबले बोर्ड परीक्षा के परिणाम को संतोष जनक बनाने पर जोर दिया गया है।

पिछली बार इंटर और हाई स्कूल की बोर्ड परीक्षा में कुल 55 हजार परीक्षार्थी शामिल हुए थे, जिसमें हाई स्कूल का परिणाम 48 प्रतिशत रहा। इंटर का परीक्षा परिणाम हाई स्कूल के मुकाबले काफी हद तक ठीक रहा। इंटर का परिणाम 64 प्रतिशत होने से सीनियर टीचरों ने तो अपनी लाज बचा ली, लेकिन हाई स्कूल के शिक्षकों पर परीक्षा परिणाम कम होने के जो दाग लगे, वे अभी धूले नहीं हैं।

बेहतर परिणाम देने वाले शिक्षकों को बोनस के रुप में एसीआर में ए ग्रेडिंग दी जाएगी। पूरे प्रदेश में मार्च के दूसरे सप्ताह से होने वाली इंटर और हाई स्कूल की बोर्ड परीक्षा के मद्देनजर डेटसीट और टाइम टेबल तैयार करने की कवायद शुरु हो गई है। इसके लिए जनपद ने डीआईएसओ ने भी अपनी रिपोर्ट भेजी है।

एक ही साथ पूरे प्रदेश में 33 लाख 30 हजार परीक्षार्थियों की बोर्ड परीक्षा कराने की डेटसीट और टाइम टेबल जनवरी के पहले सप्ताह जारी करदिए जाएंगे। बोर्ड परीक्षा में नकलचियों पर नकेल कसने से पिछले बार की तुलना में इस बार 4 हजार परीक्षार्थी कम हैं। जनपद के विभिन्न परीक्षा केन्द्रों पर परीक्षा कराने के लिए डीआईएसओ की फाइनल रिपोर्ट यूपी माध्यमिक बोर्ड को भेज दी गई है।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बेहतर परिणाम के लिए लगेंगी अतिरिक्त कक्षाएं