class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

व्यापारी व ड्राईवर की अपहरण के बाद गोली मारकर हत्या

लोहा व्यापारी व उनके ड्राईवर को लग्जरी कार समेत गाजियाबाद से अपहरण कर मोदीनगर के गावंड़ी रजवाहे पर गोली मारकर हत्या कर दी गई। बदमाश लग्जरी कार, नकदी, सोने की अंगूठी व चेन लूटकर फरार हो गये। दोनों को गोली कनपटी पर सटाकर मारी गई है।

पुलिस को मौके से तीन खोखे नाईन एमएम व एक 32 बोरके खोखे के साथ एक जिंदा कारतूस भी बरामद हुआ है। एसएसपी का कहना है कि हत्या का कारण लूट के साथ ही पुरानी रंजिश भी मानकर पुलिस जांच कर रही है।

बुधवार सुबह कोतवाली पुलिस को रजवाहे के किनारे मोदीनगर से गांवडी जाने वाले कच्चे रास्ते पर दो व्यक्तियों के शव बरामद हुए। दोनों में से एक शिनाख्त गाजियाबाद नेहरूनगर मकान संख्या डी-10 निवासी देवीशरण (55) तथा दूसरे की शिनाख्त उनके ड्राईवर सुनील (32) पुत्र लखीराम निवासी गली नम्बर छह नंदग्राम गाजियाबाद के रुप में हुई।

दोनों को कनपटी पर सटाकर इंगलिश हथियारों से दो-दो गोली मारी गई थी।पुलिस के मुताबिक बदमाश इन दोनों को पहले यहां लेकर आए और बाद में दोनों को पूरी तरह जमीन पर दबोचते हुए गोली मारी। पुलिस को घटनास्थल से तीन नाईन एमएम के खोखे, एक 32 बोर का खोखा तथा एक बुलेट बरामद हुआ है।

घटना की  सूचना पाकर मौके पर डीआईजी/एसएसपी अखिल कुमार, एसपी ग्रामीण एमएम बेग, एसपी सिटी मेरठ प्रबल प्रताप सिंह समेत गाजियाबाद व मेरठ की फोर्स पहुंच गई। इधर मौके पर पहुंचे मृतक व्यापारी देवीशरण के पुत्र विजय शंकर अग्रवाल ने बताया कि उनकी लोहा मंडी गाजियाबादमें प्रशांत आयरन के नाम से दुकान है।

मंगलवार शाम करीब आठ बजे रोजाना की तरह उनके पिता देवीशरण दुकान से अपनी एस्कोड़ा कार संख्या यूपी 14 एआर 3405 से ड्राईवर सुनील के साथ निकले थे और व्यापारी नेघर फोन करके दो घंटे बाद वापस आने की बात कहीं थी। रात में घर नहीं पहुंचने पर परिजनों ने उनके मोबाइल पर फोन किया परन्तु मोबाइल बंद पाया गया।

परिजनों ने रात में करीब एक बजे सिहानी गेट पुलिस को व्यापारी के गायब होने की सूचना दी। हालांकि विजय शंकर अग्रवाल अपने पिता के पास किसी मोटे कैश होने से इंकार किया है लेकिन उनका कहना है कि उनके पिता दो सोने की अंगूठी, चेन पहनें एवं करीब पन्द्रह  हजार की नकदी रोजमर्रा की तरह लिए हुए थे। उन्होंने यह भी बताया कि सुनील एक माह के भीतर ही कारपर ड्राईवर के रुप में रखा गया है।

डीआईजी/एसएसपी अखिल कुमार का कहना है कि प्रथम दृष्यटता से यह हत्याएं लूट के इरादे से हुई नहीं लगती हैं। यदि बदमाशों का उद्देश्य लूट था तो वे रास्ते में ही लूट की घटना को अंजाम दे सकते थे। उनका कहना है कि मर्डर के उद्देश्य से इन्हें गोली मारी गई है।

पुलिस पुरानी रंजिश से जोड़कर भी मामले की जांच कर रही है। फिलहाल एसएसपी के निर्देश पर हत्याकांड की रिपोर्ट गाजियाबाद सिटी के थाने में दर्ज होगी।

 

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:व्यापारी व ड्राईवर की अपहरण के बाद गोली मारकर हत्या