class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ट्रेन की चपेट में आने से तीन मरे

ट्रेन एक बार फिर जानलेवा साबित हुई। बुढ़िया नाले के पास ट्रेन ने एक साथ तीन लोगों को अपनी चपेट में ले लिया, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। एक शव घटनास्थल से दो किलोमीटर दूरी पर क्षतिग्रस्त हालत में मिला।
दयालनगर का 25 वर्षीय मुंशी प्रसाद अपने दो साथियों के साथ मंगलवार शाम घर से निकला था। रात तक घर वापिस नहीं लौटा। वह घरों में पेंटिंग करने का काम करता था। मंगलवार देर रात तीनों बुढ़िया नाले के पास डाउन ट्रैक (दिल्ली की ओर जाने वाली) पर एक साथ ट्रेन की चपेट में आ गए।

मुंशी का शव नाले से सौ मीटर की दूरी पर पड़ा मिला, दूसरा शव उससे थोड़ा आगे। जबकि तीसरा शव दो किलोमीटर दूर तक ट्रेन के साथ घिसटता चला गया। यह शव लक्कड़पुर के पास क्षतविक्षत अवस्था में मिला। शव के शरीर पर कपड़े भी नहीं बचे थे। इसकी पहचान भी नहीं हो पाई।

जबकि मुंशी के एक अन्य साथी के कपड़ों से टेलीफोन डायरी मिली। संपर्क साधने पर मृतक की पहचान गोरखपुर के हरिनारायण के रूप में हुई। जीआरपी थाना प्रभारी रणधीर सिंह का कहना है कि घटना में तीनों एक साथ ट्रेन की चपेट में आए गए। हादसा किस ट्रेन से हुआ इसका पता नहीं लगा है। पहचान हो चुके दो शवों को पोस्टमार्टम के बाद उनके परिजनों को सौंप दिया गया।

अज्ञात  वृद्ध की ट्रेन से कटकर मौत: बुधवार सुबह लक्कड़पुर के पास एक घटना में वृद्ध की ट्रेन की चपेट में आने से मौत हो गई। मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। वृद्ध की कमीज पर टेलर का स्टीकर लगा मिला, जिस पर ओमवीर जी टेलर लाल कुआं लिखा हुआ है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ट्रेन की चपेट में आने से तीन मरे