class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जीवन में दुख का भी स्वागत करें

मनुष्य की स्वाभाविक प्रवृत्ति है कि वह सुख तो चाहता है, लेकिन दुख से हमेशा दूर भागने की कोशिश करता है। किन्तु देखा जाए तो दुख की घडी़ में ही मनुष्य के आत्मबल, धैर्य, विवेक और जीवटता की असली परीक्षा होती है।

यह दुख ही है जो अपने और पराए की पहचान कराता है और व्यक्ति को आत्मनिरीक्षण पर मजबूर करते हुए उसे अपनी गलतियों को दूर करने का महत्वपूर्ण सबक सिखाता है।

प्रसिद्ध कवि दुष्यंत कुमार ने अपनी एक कविता में कहा है

दुख को बहुत सहेज कर रखना पडा हमें
सुख तो किसी कपूर की टिकिया सा उड़ गया।

सुख कपूर की टिकिया है, जो आग लगी नहीं कि तेजी से भभक कर जल उठता है और फिर बुझ जाता है। सुख गरम तवे पर पानी की बूंदों की तरह छन्न से पड़ता है और उड़ जाता है। हालांकि उसकी स्मृति लंबे समय तक बनी रहती है और ऐसा होना अस्वाभाविक भी नहीं है।

दरअसल अस्वाभाविक यह सोच है कि हमेशा सुखी बने रहें। यह सोच ही व्यक्ति को भीरु और पलायनवादी बनाती है। हमेशा सुखबोध की कल्पनाएं संजोने वाला मन दुख के आते ही डर जाता है। दुख किसी अनजान और भयानक अतिथि की तरह होता है जिससे निपटने में पसीना छूट जाता है।

दुख या प्रतिकूल परिस्थितियों के प्रति व्यक्ति का नजरिया शुरू से ही पलायनवादी होता है और वह उससे लड़ने की बजाय उससे बचने में अपनी शक्ति अधिक लगाता है। दुख के समय दूसरों को दोषी ठहराना व्यक्ति का प्रिय शगल होता है, जबकि जीवन की सच्चाई यही है कि दुख ही मनुष्य का सच्चा साथी है।

तुलसीदास ने कहा हैः धीरज, धर्म, मित्र अरु नारी, आपतकाल परखिए चारी। यानी, संकट के समय ही धीरज, धर्म, मित्र और नारी की परीक्षा होती है। जो विवेकशील होते हैं, वे आने वाले कठिन समय का अनुमान बहुत पहले ही करते हुए उससे निपटने की तैयारी में जुट जाते हैं।

सुख किसी व्यक्ति को अहंकारी, गैर जिम्मेदार और लापरवाह बना सकता है लेकिन दुख की भट्ठी में जलने के बाद बहुत से दुर्गुण भी जल जाते हैं। वास्तव में दुख जीवन का सर्वश्रेष्ठ शिक्षक हैं, लेकिन दुर्भाग्य से मनुष्य उसकी पाठ ठीक से पढ़ते नहीं हैं।

कोशिश करिए कि जीवन में सुख के साथ दुख का भी प्रसन्नता से स्वागत किया जाए। यह काम मुश्किल जरूर है लेकिन असंभव नहीं। हमारे सामाजिक जीवन से जुडे आपके विचार का हम स्वागत करते हैं। इस प्लेटफॉर्म पर शानदार इनाम के साथ आपका स्वागत है। तो फिर देर किस बात की?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जीवन में दुख का भी स्वागत करें