class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सामूहिक पहल से बना निर्मल ग्राम

भेंसियाछाना विकासखण्ड के कुंज रतौड़ा  को निर्मल ग्राम का पुरस्कार दिया गया है। यहां के ग्रामीणों ने सामूहिक पहल के जरिये की गई सफाई और कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था कर पर्यावरणीय स्वच्छता की मिसाल कायम की है।

करीब 60 परिवारों की ग्रामपंचायत कुंज रतौड़ा  में 20 बीपीएल परिवार हैं। सभी परिवारों के घरों में शौचालय बने है। गांव में कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था की गई है इसके लिए कई घरों के बीच कच्चे गढ्ढे बनाने गये है, इसके अलावा गोबर की खाद बनाने के लिए कंपोस्ट पिट् बनाये गये।

गांव के रास्तों, नालियों की निरन्तर सफाई और पेयजल की स्वच्छता का खास ध्यान रखा जा रहा है। इसके लिए गांव समुदायों को प्रेरित करने और व्यवस्था बनाने में युवक मंगल दल और युवा ग्राम प्रधान की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जा रही है।

देहरादून से पुरस्कार लेकर लौट रहे कुंज रतौड़ा के प्रधान केसी सनवाल ने बताया कि आरंभ में लोगों को इसके लिए तैयार करने में कुछ कठिनाई आई लेकिन जब लोगों को इसके फायदों के बारे में समझाया गया तो वे मान गये और जब उन्हें इसके लाभ मिलने लगे तो पूरी व्यवस्था के निरन्तर संचालन में सभी बढ़चढ़ कर भाग लेने लगे हैं।

गांव में शौचालयों के उपयोग से अब गांव के रास्ते साफ रहते है। इससे जलस्नोतों के आसपास भी गंदंगी नहीं जा रही है। इससे गांव में पेट संबंधी बीमारियों भी कम सामने आ रही है।

उन्होंने बताया कि ग्रामीणों द्वारा गांव जल निकासी की व्यवस्था, रास्तों और नालियों की नियमित सफाई की जा रही है, गांव में कूड़े के निस्तारण के लिए गढ्डे और  गोबर के लिए कंपोस्ट पिट बनने से वर्षात में इससे  अच्छी खाद मिल रही है और इससे होने वाली गंदगी भी दूर हो गई है।

अब मखियॉ से भी छुटकारा मिल गया है। साथ ही गांव में जल संवर्धन के और संरक्षण के लिए तालाब और चौड़ीपत्ती के पेड़ों का बनीकरण किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सामूहिक पहल से बना निर्मल ग्राम