class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नक्सलियों ने कालेजकर्मी को अगवा कर मार डाला

इमामगंज थानाक्षेत्र के नेहुटा पहाड़ के समीप से रविवार की सुबह पुलिस ने कमलेश कुमार नामक व्यक्ति की क्षत-विक्षत लाश बरामद की। पुलिस ने इस घटना के पीछे भाकपा माओवादी नक्सलियों का हाथ होने की आशंका व्यक्त की है। घटनास्थल से कुछ पर्चे भी मिले हैं। इधर इस हत्या के विरोध में ग्रामीणों ने बांकेबाजार के समीप मुख्य मार्ग पर आवाजाही रोक दी ।

इसी थाने के सलवार गांव का रहने वाला कमलेश बांकेबाजार के उपेन्द्र नाथ वर्मा कालेज में बतौर अनुसेवक कार्यरत था। बताया जाता है कि गत 18 दिसम्बर की शाम बांकेबाजार थाने के जूरी गांव के निकट नदी के किनारे से अज्ञात बंदूकधारियों ने उसका अपहरण कर लिया था।

अपहरणकर्ताओं के चंगुल में वह तब फंस गया था जब कहा जाता है कि वह नावाडीह गांव से पैदल बांकेबाजार लौट रहा था। इमामगंज थाने के एक अधिकारी मो़ मुस्तफा ने बताया कि शव के पास मिले पर्चे में मृतक को आरसीसी और टीपीसी का समर्थक होने के साथ पुलिस का मुखबिर बताया गया है।

साथ में बांकेबाजार में तकरीबन दो साल पहले हुई शंभू यादव नामक एक ग्रामीण की हत्या में भी मृतक का हाथ बताया गया है। पर्चा भाकपा माओवादी की ओर से छोड़ा गया बताया जाता है। रिपोर्ट है कि मृतक के सिर में गोली के जख्म मिले हैं, जख्म इतना विभत्स है कि इससे चेहरा पहचानना भी मुश्किल है। कपड़े से मृतक की पहचान की गई है। उसके शरीर पर सफेद पैंट और कमीज तथा स्वेटर थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नक्सलियों ने कालेजकर्मी को अगवा कर मार डाला