class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिना आईडी प्रूफ आमिर को ठहराना महंगा पड़ा, होटल का लाइसेंस रद करने की संस्तुति

फिल्म अभिनेता आमिर खान और उनकी दस सदस्यीय टीम को बिना आईडी प्रूफ के तीन दिन तक ठहराना मुगलसराय के सरस्वती होटल के प्रबंधन को महंगा पड़ गया।

एसपी ने इस होटल का लाइसेंस निरस्त करने की संस्तुति रविवार को जिलाधिकारी को भेज दी। डीएम ने कहा कि एसपी की रिपोर्ट के आधार पर होटल मालिक को नोटिस भेजी जायेगी और उसका जवाब मिलने के बाद र्कावाई की जायेगी।

एसपी लक्ष्मी नारायण ने अपने कार्यालय में मीडिया से बातचीत के दौरान बताया कि आमिर खान की टीम अकरम शाह एण्ड पार्टी के नाम से सरस्वती होटल में 10 से 13 दिसम्बर तक सात कमरों में रही। बिना आईडी प्रूफ के होटल में ठहरी इस टीम के बारे में प्रबंधन ने पुलिस को कोई सूचना नहीं दी थी।

इस संबंध में पुलिस ने होटल को नोटिस जारी की थी और उसका जवाब मिलने के बाद इस मामले की जांच नगर क्षेत्रधिकारी से करायी गयी। जांच में पाया गया कि होटल प्रबंधन बिना आईडी प्रूफ के लोगों को पहले भी ठहराता रहा है।

होटल कर्मी कमरा बुक कर लेते हैं, लेकिन यह उल्लेख नहीं करते कि उसमें कौन ठहरा है। होटल के मालिक ने पुलिस को भेजे गये स्पष्टीकरण में लिखा है कि होटल मैनेजर विवश पोखराल (जो नेपाल गया है) ने मालिक को फोन से बताया था कि होटल में टंगी उसकी शर्ट में आमिर खान और उनकी टीम का आईटी प्रूफ है, लेकिन उसकी जेब में अकरम अहमद सनाउल्लाह शाह का नाम-पता मिला जबकि होटल के कमरे अकरम शाह एण्ड पार्टी के नाम से बुक किये गये थे।

एसपी ने कहा कि मुगलसराय जैसे महत्वपूर्ण जगह स्थित इस होटल के प्रबंधन की लापरवाही का फायदा उठाकर आतंकवादी भी कोई बड़ी वारदात कर सकते थे। सीओ की जांच में भी उजागर हुआ कि होटल प्रबंधन नियमों की अनदेखी करता रहा है।

इसलिए दिसम्बर 1999 में बना होटल का लाइसेंस निरस्त करने के लिए जिलाधिकारी से संस्तुति की गयी है। यह पूछने पर कि क्या आमिर खान पर भी कोई कारवाई होगी, एसपी ने कहा कि होटल में रुके लोगों ने कोई आपराधिक कृत्य नहीं किया है इसलिए उन लोगों पर कोई कार्रवाई नहीं होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिना आईडी प्रूफ आमिर खान को ठहराना महंगा पड़ा