class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतर्राष्ट्रीय बाजार से भी मुश्किल हुआ चीनी का आयात

अंतर्राष्ट्रीय बाजार से भी मुश्किल हुआ चीनी का आयात

अंतर्राष्ट्रीय बाजार में चीनी की कीमत ऊंची होने के कारण चीनी मिलों और निजी व्यापारियों द्वारा चीनी आयात के लिए अभी और नए अनुबंध किए जाने की संभावना नहीं है।

बाजार विश्लेषकों और चीनी मिलों के अनुसार भारत में बड़े पैमाने पर चीनी आयात की संभावना के मद्दे नजर पिछले सप्ताह चीनी का अंतर्राष्ट्रीय बाजार गर्म हो गया था। दुनिया के सबसे बड़े चीनी उपभोक्ता भारत को लेकर बाजार की प्रत्याशाओं के बीच अंतर्राष्ट्रीय बजार में कच्ची चीनी की कीमत 26.43 सेन्ट प्रति पौंड के स्तर पर पहुंच गई जो 28 वर्ष का उच्चतम स्तर है।

कम उत्पादन के कारण भारत चीनी की कमी का सामना कर रहा है। हैदराबाद स्थित कमोडिटी ब्रोकरेज कार्वी कामट्रेड के विश्लेषक वीरेश हीरामथ ने कहा कि विश्व के विशालतम उपभोक्ता देश भारत से आयात की बड़ी मांग निकलने की उम्मीदों से विश्व चीनी बाजार चढ़ गया है। पर इस उच्च दर पर भारत में आयात करना संभव नहीं होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंतर्राष्ट्रीय बाजार से भी मुश्किल हुआ चीनी का आयात