class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सभी न्याय पंचायतों में खुलेंगे एग्री क्लीनिक

जिले के सभी न्याय पंचायतों में दो-दो एग्री क्लीनिक और एग्री बिजनेस सेंटर खोले जाएंगे। इसके लिए जिले के कृषि स्नातकों को मुफ्त में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

एग्री क्लीनिक के लिए उन्हें 20 लाख रुपये तक ऋण मुहैया कराया जाएगा। इसमें से एक तिहाई धनराशि अनुदान के रूप में दी जाएगी। नया सत्र जनवरी 10 से शुरू होगा। मौजूदा समय मे जिले में 80 एग्री क्लीनिक चल रहे हैं।

जिलाधिकारी एके उपाध्याय ने एग्रीक्लीनिक और एग्री बिजनेस सेंटर खोलने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। जिला कृषि अधिकारी अशोक उपाध्याय ने कहा है कि एग्री क्लीनिक और एग्री बिजनेस सेंटर खोलने के इच्छुक अभ्यर्थी उनके कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं।

एग्रीक्लीनिक और एग्री बिजनेस प्रशिक्षण संस्थान शिवपुर (भरलाई) में प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की गई है। प्रशिक्षण लेने वाले अभ्यर्थियों के ठहरने, खाने-पीने और नाश्ते की व्यवस्था संस्थान करेगा।

आवेदकों को सिर्फ पांच सौ रुपये रजिस्ट्रेशन फीस जमा करनी होगी। जिले में कुल 108 न्याय पंचायतें हैं। सभी में दो-दो कृषि स्नातकों को प्रशिक्षण देने की व्यवस्था की गई है।

इस तरह से 216 कृषि स्नातकों को प्रशिक्षत किया जाएगा। प्रशिक्षण देने वाली संस्था बैंकों से संपर्क कर उन्हें एग्री क्लीनिक और एग्री बिजनेस सेंटर खोलने के लिए ऋण मुहैया कराएगी।

कुल ऋण का एक तिहाई हिस्सा सरकार अनुदान के रूप में देगी। प्रशिक्षण के बाद कृषि स्नातक गांवों में अपनी क्लीनिक खोल सकेंगे।

साथ ही डेयरी, गोटरी, पोल्ट्री, फारेस्टी समेत कृषि आधारित उद्योग स्थापित कर सकेंगे। जिस संस्था में कृषि स्नातकों को प्रशिक्षण दिलाया जाएगा वहां से प्रशिक्षित कुल 1272 लोग अपना एग्री क्लीनिक चला रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सभी न्याय पंचायतों में खुलेंगे एग्री क्लीनिक