class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

15 दिवसीय विरासत सांस्कृतिक महोत्सव की शुभारंभ

 उत्तराखण्ड में देवताओं के आहवान के साथ ही 15 दिवसीय विरासत सांस्कृतिक महोत्सव की शुरूआत की गई। गढ़वाली और कुमांउनी संस्कृति को संगीत के माध्यम से स्टेज पर उतारने का काम  रीच संस्था द्वारा किया जा रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने वृहस्पतिवार को इस महोत्सव का उदघाटन किया।

   उत्तराखण्ड में 15 दिवसीय विरासत सांस्कृतिक महोत्सव की शुरूआत की गई।  इस कार्यक्रम के संयोजक आर के सिंह ने शुक्रवार को  बताया कि कल से शुरू हुई 15 दिन तक चलने वाली इस सांस्कृतिक संध्या में राज्य के तमाम ख्यातिप्राप्त कलाकारों के अतिरिक्त देश के कई शास्त्रीय संगीतज्ञ हिस्सा लेंगे। उन्होंने कहा कि वर्ष 1995 से चलाये जा रहे इस अनूठे कार्यक्रम में अब तक 1300 से भी अधिक राष्ट्रीय और प्रांतीय स्तर के कलाकारों द्वारा अपनी प्रस्तुति दी जा चुकी है।
     सिंह ने कहा कि इस वर्ष विरासत सांस्कृतिक महोत्सव में उत्तराखण्ड के अलावा दिल्ली  पंजाब  हरियाणा और मुबंई के कलाकार भी हिस्सा ले रहे हैं।

 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: 15 दिवसीय विरासत सांस्कृतिक महोत्सव की शुभारंभ