class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ना किसानों से हमदर्दी नहीं, यह कांग्रेसी ड्रामा: रालोद

गन्ना किसानों के मुद्दे पर कांग्रेस के धरने को राष्ट्रीय लोकदल ने राजनीतिक ड्रामा बताया है। रालोद महासचिव मुन्ना सिंह चौहान ने आरोप लगाया कि जब केन्द्र ने गन्ने का मूल्य 129 रुपए तय किया था तो कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह व वीएम सिंह ने इस फैसले का स्वागत किया था।


रालोद नेता श्री सिंह व अनिल दुबे ने एक संयुक्त प्रेस वार्ता में कहा कि कांग्रेस का गन्ना किसानों को 280 रुपए प्रति कुंतल का दाम माँगना जनता को धोखा देना है। उन्होंने कहा कि चौ. अजित सिंह के नेतृत्व में रालोद ने पूरे प्रदेश में गन्ने का उचित मूल्य दिलवाया। किसानों को 210-215 रु. प्रति कुंतल की दर से मूल्य मिल रहा है। जहाँ नहीं मिल रहा वहाँ रालोद धरना प्रदर्शन कर रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार गन्ना किसानों के खिलाफ काला अध्यादेश लाई थी। चौ. अजित सिंह के दबाव में केन्द्र को उसे वापस लेना पड़ा।


 चौहान ने कहा कि उन्होंने पलिया व पीलीभीत क्षेत्र का दौरा किया। इन जिलों में गन्ना किसानों को 190 रु. की दर से गन्ने का दाम मिल रहा है। जबकि इन जिलों के नेता पूरे प्रदेश में गन्ने का 280 रु. का मूल्य माँग रहे हैं। उनका इशारा वीएम सिंह की तरफ था। उन्होंने कहा कि निगम व सहकारी मिलों में किसानों को गन्ने का वाजिब दाम नहीं मिल रहा है। उन्होंने एलान किया कि 23 दिसम्बर को चौ. चरण सिंह की जयंती के मौके पर पूरे प्रदेश में गन्ने का उचित मूल्य दिलाने का अभियान चलाया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गन्ना किसानों से हमदर्दी नहीं, यह कांग्रेसी ड्रामा: रालोद