class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनीमिया

आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया सबसे आम है। तकरीबन 20 प्रतिशत औरतें, 50 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं और तीन प्रतिशत पुरुषों में आयरन की कमी होती है। आयरन शरीर की प्रत्येक कोशिका में मौजूद होते हैं और शरीर में खून की क्वालिटी सुधारता है। यह तनाव में कारगर और रोगों से लड़ने की शक्ति भी देता है। आयरन की कमी से शरीर में आलस्य, सिरदर्द, कमजोरी, त्वचा का पीलापन, चक्कर आना, घबराहट और ध्यान केंद्रित न होना जैसे लक्षण होते हैं।

कितना आयरन जरूरी : महिलाओं को प्रतिदिन 18 मिग्रा आयरन और पुरुषों को रोजाना 8 मिग्रा आयरन लेना चाहिए। हालांकि आयरन की मात्र व्यक्तिगत लाइफस्टाइल पर भी निर्भर करती है।

एनीमिया का इलाज : इसका इलाज इस पर निर्भर करता है कि एनीमिया का कारण क्या है? उदाहरण के लिए अगर एनीमिया खून की कमी से हो रहा है, तो खून निकलने का इलाज किया जाता है। अगर इसका कारण डाइट में आयरन की कमी है, तो उसमें बदलाव हो सकता है। भोजन में आयरन के सप्लीमेंट ज्यादा लें।

व्यायाम की सलाह : व्यायाम का प्राथमिक लक्ष्य कार्डियोवस्कुलर क्षमता और स्टेमिना में सुधार करना होता है। व्यायाम उतना ही करें, जितना आपका शरीर सहने में सक्षम हो। आयरन सप्लीमेंट के पर्याप्त सेवन और व्यायाम द्वारा इम्युनिटी स्तर में सुधार कर सकते हैं।

कार्डियोवस्कुलर ट्रेनिंग : इस ट्रेनिंग का मुख्य उद्देश्य स्टेमिना बढ़ाना है। आप रोजाना कम तीव्रता का 15 मिनट का व्यायाम कर सकते हैं। जैसे चलना, तैरना और साइक्लिंग।

सांस लेना : यह आपका तनाव कम करता है, साथ ही शरीर और दिमाग को भी आराम देता है जैसे प्राणायाम और स्ट्रेचिंग।

तीव्रता : हल्के व्यायाम करें। शुरुआत 15 मिनट से ज्यादा न हो। फिजीशियन से सलाह जरूर लें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:एनीमिया