class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

विनोद, संजय के गिरफ्तार नहीं होने पर कोर्ट की टिप्पणी

कोड़ा एंड कंपनी के विनोद सिन्हा एवं संजय चौधरी के खिलाफ वारंट जारी होने के बाद गिरफ्तारी नहीं होने को कोर्ट ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया है।

जस्टिस एमवाइ इकबाल एवं जस्टिस आरआर प्रसाद की कोर्ट ने मौखिक टिप्पणी करते हुए कहा कि यह पुलिस की अक्षमता भी है। दुर्गा उरांव के मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने यह टिप्पणी की। हालांकि कोर्ट ने मामले को सुनवाई के लिए चीफ जस्टिस की बेंच में स्थानांतरित कर दिया।

राज्य के पूर्व मंत्री एनोस एक्का, हरिनारायण राय, दुलाल भुइयां, विनोद सिन्हा, संजय चौधरी, मधु कोड़ा, चंद्रप्रकाश चौधरी, बंधु तिर्की, भानू प्रताप शाही की संपत्ति की जांच के लिए दायर जनहित याचिका चीफ जस्टिस की अध्यक्षतावाली खंडपीठ में सूचीबद्ध था।

चीफ जस्टिस के नहीं रहने के कारण मामला दूसरी बेंच में स्थानांतरित कर दिया गया था।  सुनवाई के दौरान प्रार्थी की ओर से कहा गया कि इस मामले में विनोद सिन्हा और संजय चौधरी की गिरफ्तारी नहीं हो रही है।

पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास नहीं कर रही है। प्रार्थी ने आशंका जताई की दोनों विदेश में हैं। इस पर आयकर विभाग की ओर से कहा गया कि दोनों को गिरफ्तार करने के लिए विभाग ने वारंट भी जारी किया है, लेकिन पुलिस ने उसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विनोद, संजय के गिरफ्तार नहीं होने पर कोर्ट की टिप्पणी