class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

93 फीसदी भारतीय हैं नींद पूरी न होने के शिकार

93 फीसदी भारतीय हैं नींद पूरी न होने के शिकार

अच्छी सेहत से लिए कम से कम आठ घंटे की नींद जरूरी मानी जाती है। लेकिन एक ताजा सर्वेक्षण के अनुसार, 93 प्रतिशत भारतीय ऐसे हैं जिन्हें आठ घंटे की जरूरी नींद नहीं मिलती है। जबकि 11 प्रतिशत भारतीय ऐसे हैं जो काम के दौरान यानी दफ्तर में सोते हैं। फिलिप्स इलेक्ट्रानिक्स इंडिया लि़ द्वारा कराए गए सर्वेक्षण के अनुसार, 11 प्रतिशत भारतीय सिर्फ इसलिए छुट्टी लेते हैं, क्योंकि उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती।
    
यह सर्वेक्षण नील्सन कंपनी ने नवंबर, 2009 के दौरान किया था। इसमें 25 शहरों के 35 से 65 साल की आयु वाले 5,600 लोगों को शामिल किया गया था। सर्वेक्षण में शामिल 58 प्रतिशत लोगों का कहना था कि नींद पूरी न हो पाने की वजह से उनका काम प्रभावित होता है, जबकि 11 फीसदी दफ्तर में ही सो जाते हैं।
    
सर्वेक्षण के मुताबिक, 74 प्रतिशत लोग ऐसे हैं जो एक बार की नींद के दौरान एक से तीन बार उठते हैं। इनमें से 90 प्रतिशत ने कहा कि वे बीच में शौच आदि के लिए जागते हैं, जबकि 15 प्रतिशत ने बार-बार नींद खुलने के लिए काम के तनाव को जिम्मेदार बताया। 10 फीसदी का कहना था कि वे घर के बाहर शोर होने पर जाग जाते हैं। सर्वेक्षण में शामिल 62 प्रतिशत लोगों में बाधा वाली नींद का काफी जोखिम (ओएसए) पाया गया। इससे दिल की बीमारी का खतरा होता है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:93 फीसदी भारतीय हैं नींद पूरी न होने के शिकार