class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आमिर खान चार दिनों तक मुगलसराय में बनाया ठिकाना

भले ही बनारस के लोग ‘बहरूपिए’ आमिर को नहीं पहचान पाए हों, मगर उनके जाने के बाद राज बेपर्दा हो रहे हैं। वे अपनी टीम के साथ मुगलसराय के सरस्वती होटल में ठहरे, जहां पहले से सात कमरे बुक किए गए थे।

रजिस्टर में दर्ज नाम है- अकरम साह एण्ड पार्टी और पता- 57 जानकी देवी स्कूल रोड, महुदू, मुम्बई 5 बी (मो. 9004682571)। आमिर की काशी यात्रा का तानाबाना करीब दो माह पूर्व बुना जा चुका था। तब दो लोग इसी नाम से मुगलसराय के सरस्वती होटल में आकर ठहरे थे। तब लोकेशन और रूट मैप तय हो गया, जिसके मुताबिक आमिर ने बनारस में तीन दिन बिताए।

दिन : गुरुवार, 10 दिसंबर। समय : शाम 6:45 बजे। स्थान : सरस्वती होटल। दो इनोवा कार (ग्रे और सिल्वर कलर) आकर रुकती हैं। कार से एक जींस की पैंट शर्ट पहने महिला और बुर्का ओढ़े आमिर खान रिसेप्शन पर पहुंचे।

कमरा नंबर 201, 202, 203, 215, 216, 217, 218 बुक किया। इसके बाद कार से दस और लोग कारों से उतरे। कार पार्किग करने के बाद सभी अपने कमरों में चले गये। उनके पास बड़े-बड़े कैमरे और जरूरी सामान था।

टीम ने होटल के प्रबंधन के सामने पहले ही यह शर्त रखी थी कि इन कमरों में सर्विस करने के कोई नहीं जाएगा। जो कुछ भी सर्व करना है केवल कमरा नंबर 216 में। इसी वजह से आमिर खान व उनके सहयोगी इत्मीनान से अपना काम करते रहे और उनको कोई पहचान तक नहीं पाया।

होटल के रिसेप्शन पर उपस्थित होटल मालिक वंश नारायण सिंह के पुत्र अनिल सिंह व अमित सिंह तथा कर्मचारी रामानंद यादव व राजेश सोलंकी ने हिन्दुस्तान को बताया कि जींस पहनी महिला कमरा नंबर 201 में और बुर्के में आमिर खान कमरा नंबर 202 में ठहरे हुए थे। सभी दिनभर होटल में ही रहते।

वे रोज अपनी टीम के साथ आधी रात को बुर्का ओढ़कर निकलते और पांच बजे भोर तक वापस आ जाते। रात के अंधेरे में आमिर ‘मां के आंगन में रात बिताने’ की हसरत पूरी करते रहे। मुगलसराय में ठहरने का खुलासा खुद आमिर ने ही रविवार, 13 दिसंबर को  अलसुबह पांच बजे किया।

इस वक्त बुर्के की जगह आमिर वास्तविक रूप में काली पैंट, काली शर्ट, काला कोट और काला जूता पहने रिसेप्शन पर महिला सहकर्मी के साथ आये। होटलकर्मी उन्हें पहचान कर बोले- ‘गुड मार्निग सर। आप तो आमिर खान हैं।’

तभी आमिर ने होठों पर अंगुली रखते हुए चुप रहने का इशारा किया और बंगाल स्वीट हाउस गौदोलिया वाराणसी के डिब्बों में बंद पांच किलो राजभोग मिठाई देकर पूरी टीम के साथ इनोवा पर सवार होकर विदा हो गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुर्का पहनकर होटल से निकलते थे आमिर