class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मैं एक्टर हूं, बॉडी बिल्डर नहीं : शाहिद

मैं एक्टर हूं, बॉडी बिल्डर नहीं : शाहिद

अब आप खुद को शीशे में देख कर कैसा फील करते हैं?
इन दिनों मैं जिस फिल्म की शूटिंग कर रहा हूं, उसमें मेरा लुक और हेयर स्टाइल बिल्कुल अलग है।  6 और 8 पैक एब्स तो ‘कमीने’ और ‘चांस पे डांस’ के लिए थे। वो सब मैनेज करना वाकई एक कठिन अनुभव था, लेकिन अब
खुद को शीशे के सामने देखता हूं तो सुकून मिलता है।

क्या लड़कियां आपको शर्ट उतारने के लिए कहती हैं?
हां, ऐसा कुछेक बार तो जरूर हुआ है, पर मैं आनाकानी कर देता हूं, शरमा जाता हूं, लेकिन मैं इस बात को भी नहीं छिपा सकता कि यह मुझे अच्छा लगता है।

क्या एट पैक्स डेवलप करने से आप में मर्दाना फीलिंग आयी है?
मैं इस जवाब को उलझाना नहीं चाहता।  इससे कोई ज्यादा फर्क तो नहीं पड़ता, पर हां, इससे मन में अच्छी भावना जरूर पैदा होती है।

अगर आपके एट पैक एब्स नहीं होते तो क्या फिर भी आप शर्ट उतारते?
मेरे निर्देशक केन घोष ने इस मामले में मेरे सामने कोई च्वाइस नहीं रखी थी। फिल्म में मैं एक संघर्षशील कलाकार की भूमिका कर रहा हूं। चूंकि मुझे एक सुपर स्टार बनना है और इसके लिए मुझे उसके जैसा दिखना भी है, इस लिहाज से एट पैक्स जरूरी थे, क्योंकि हीरो को गुड लुकिंग दिखना जरूरी है।

क्या सिक्स और एट पैक्स की प्रेरणा आपको शाहरुख और आमिर से मिली?
मैं सच कहूं तो मैंने 6 या 8 पैक्स के लिए कोई प्लान नहीं किया था। ‘कमीने’ में मुझे रफ-टफ दिखना था और ‘चांस पे डांस’ में बॉडी में गठीले बदन के साथ-साथ डांस के लिए लचक भी जरूरी थी। इन दोनों फिल्मों के लिए मैंने लगातार एक साल तक अपने ट्रेनर के साथ मेहनत की। वो केन घोष थे, जो लगातार मेरी फिजीक पर नजर रखत थे। मुझे पता ही नहीं लगा कि मेरे एट पैक्स कब बन गये। 

तो इन्हें डेवलप करने में सबसे बड़ा चैलेंज क्या था?
अंत के चार पैक्स डेवलप करने आसान नहीं थे। ऊपरी एब्स में दिक्कत नहीं होती, पर निचले हिस्से में फैट आसानी से कम नहीं होता। अगर आप शुद्ध शाकाहारी हैं तो दिक्कत और बढ़ जाती है।

क्या एब्स की वजह से आपको डांस या अभिनय में कोई मदद मिली?
सच कहूं तो एक सच्चा कलाकार अपने अभिनय में वैरायटी से ही खुद को साबित कर सकता है। मेरे लिए विश्व के दिग्गज कलाकार जैसे रॉबर्ड डि नीरो, अल पचीनो, दिलीप साहब और अमित जी अपने-अपने अभिनय के लिए जाने जाते हैं, न कि अपनी बॉडी के शो ऑफ के लिए। मैंने खुद को साबित करने के लिए इन्हें डेवलप नहीं किया। हां, इससे विजुअल इफेक्ट्स और फिल्म की एस्थेटिक अपील जरूर बढ़ती है।

आपने शुरू में कहा कि मैं अब थोड़ा अलग-सा लग रहा हूं, कैसे?
हां, परमीत की इस फिल्म में मुझे फिर से 22 साल के एक लड़के की भूमिका निभानी है। परमीत ने मुझे कुछ दिनों पहले एक शो में देखा था। वह चिंता में थे। हमें आने वाले एक महीने में शूटिंग शुरू करनी है, जिसके लिए मुझे थोड़ा वजन बढ़ाना होगा। मुझे साधारण लगना है। मुझे एट पैक्स अच्छे लगते हैं, पर पेशेवर रवैये में इनकी जगह नहीं है। वैसे भी मैं एक एक्टर हूं, बॉडी बिल्डर नहीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मैं एक्टर हूं, बॉडी बिल्डर नहीं : शाहिद