class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुलिस भर्ती घोटाले में बसपा नेता गिरफ्तार

एलआईयू और एसओजी टीम ने पुलिस भर्ती घोटाले का पर्दाफाश कर एक बसपा नेता को गिरफ्तार किया है। इस रैकेट को एक बड़े पुलिस अधिकारी का बेटा संचालित कर रहा था। पुलिस ने बसपा नेता और अधिकारी के बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

माना जा रहा है कि इस मामले में कई अन्य आला अधिकारियों की भी संलिप्ता सामने आ सकती है। बसपा नेताओं ने पकड़े गए साथी को छुड़वाने के लिए एडी से लेकर चोटी तक जोर लगाया लेकिन मामला लखनऊ से जुड़ा होने के कारण कामयाब नहीं हो सके।

करीब दस दिन पहले एलआईयू के सीओ ऋषिराम को सूचना मिली कि पुलिस भर्ती के नाम पर शहर में कोई रैकेट काम कर रहा है। सीओ की सूचना के आधार पर एसएसपी अमित चंद्रा ने आईजी मेरठ की मदद लेकर थाना सदर बाजार क्षेत्र के हसनपुर निवासी बसपा नेता धूम सिंह के फोन लिस्टलंग पर लगवा दिए।

सूचना पुख्ता हो जाने के बाद एसओजी और एलआईयू टीम ने सोमवार शाम करीब साढ़े तीन बजे धूम सिंह को उठा लिया। इसके बाद बसपा के अन्य नेताओं ने पुलिस अधिकारियों पर दबाव बनाकर उसे छुड़वाने का प्रयास किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हो सके। परिजनों और अन्य समर्थनों ने उसे उठाये जाने पर दिल्ली हाईवे जाम करने का प्रयास किया, लेकिन सिटी मजिस्टट्र और सीओ ने मौके पर पहुंचकर जाम खुलवा दिया।

देर रात तक बसपा नेताओं और पुलिस अधिकारियों के बीच रस्साकशी चलती रही। थाने में पूछताछ के दौरान शुरूआत में तो धूम सिंह भर्ती घोटाले में शामिल होने से मुकरता रहा, लेकिन जब उसे उसी की पूरी रिकार्डिग सुनवाई गई तो वह टूट गया। धूम सिंह ने बताया कि लखनऊ के एक बड़े अधिकारी का बेटा रीतेश इस पूरे रैकेट को चला रहा है।

वह उससे दिल्ली रोड स्थित एक बड़े होटल में आकर उससे मिलता था। वहीं पर वह भर्ती होने के इच्छुक लोगों को उससे मिलवाता था। फालोअर की भर्ती के लिए 50-50 हजार रुपए तथा पुलिस के जवानों की भर्ती के लिए ढाई-ढाई लाख रुपए लेने की बात धूम सिंह ने स्वीकार की है। एसएसपी अमित चंद्रा का कहना है कि उन्होंने धूम सिंह और रीतेश दोनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी है। धूम सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसकी जांच शुरू करा दी गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पुलिस भर्ती घोटाले में बसपा नेता गिरफ्तार