class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आइएमटी के आड़े आया संकरा पुल

इंडस्ट्रियल मॉडल टाउनशिप (आइएमटी) के विकसित होने में एक बड़ी अड़चन सामने आई गई है। यहां तक पहुंचने को हरियाणा राज्य औद्योगिक संरचना विकास निगम (एचएसआइआइडीसी) ने रास्ता ही नहीं बनाया है। जिसको लेकर उद्यमी असमंजस में हैं। आइएमटी में अपनी इकाई लगाने के लिए मौका मुआयना करने आए उद्यमी इस समस्या को लेकर स्तब्ध रह गए।


कई उद्यमियों ने जिला उद्योग केंद्र में इसकी शिकायत भी की। जिला उद्योग केंद्र के संयुक्तायुक्त आरके राणा ने इस समस्या से राज्य सरकार को अवगत कराया दिया है। आइएमटी पहुंचने के लिए बाइपास रोड से आगरा नहर पार करने के लिए चंदावली के निकट बने पुल की चौड़ाई मात्र तीन मीटर है। इस पुल से बड़े ट्रकों या गाड़ियों का निकलना मुश्किल है। पुल की हालत जजर्र है। एचएसआइआइडीसी को इसके लिए अलग से चार लेन चौड़ा पुल बनाने की आवश्यकता है। सरकार ने इस दिशा में कदम उठाया तो इसके निर्माण पर करीब दो करोड़ की लागत आएगी।


पिछले दिनों महिंद्रा एंड महिंद्रा तथा लार्सन एंड टबरे-जैसी बड़ी कंपनियों के आइएमटी का सर्वे करने के बाद कई अन्य शहरों के औद्योगिक संगठन और उद्योगपतियों के दौरा करने पर यह मामला उजागर हुआ। औद्योगिक नगरी फरीदाबाद का पुराना रुतबा वापस लाने के लिए राज्य सरकार आइएमटी को विश्वस्तरीय मानकों से विकसित करने का दावा कर चुकी है। ताकि यहां एक मदर यूनिट भी स्थापित की जा सके। सरकार ने इसके लिए कई बड़ी कंपनियों से संपर्क भी किया है। लेकिन आइएमटी तक पहुंचने के लिए रास्ता नहीं होने से इसके विकास में अड़चन की आशंका व्यक्त की गई है। बल्लभगढ़ के निकट करीब 1800 एकड़ में इस आइएमटी को विकसित किया जा रहा है। इसमें औद्योगिक सुविधाएं और मूलभूत ढांचा विश्वस्तरीय होगा। जल्द ही यहां सीवरेज, पानी और बिजली जैसी सुविधा के प्रोजेक्ट्स पर काम शुरू हो जाएगा।


लघु उद्योग भारती के जिला महासचिव श्रीराम अग्रवाल:राज्य सरकार ने आइएमटी के लिए तैयारी तो पूरी कर दी। लेकिन आइएमटी पहुंचने के लिए रास्ता ही नहीं बनाया। विभाग की लापरवाही है। कई अन्य शहरों के उद्यमियों ने आइएमटी में इकाई लगाने की इच्छा जताई है। कई लोगों ने साइट देख ली है। लेकिन साइट पर उद्यमियों की सुविधा के लिए विभाग का कोई कार्यालय नहीं है। यहां तक की सुलभ रास्ता भी नहीं है


जिला उद्योग केंद्र के संयुक्तायुक्त आरके राणा: 20 से अधिक उद्योगपति आइएमटी का दौरा कर चुके हैं। इस दौरान आइएमटी तक पहुंचने वाले रास्ते की मुख्य समस्या सामने आई है। इससे राज्य सरकार को अवगत करा दिया गया है। आगरा नहर पर बना पुल की चौड़ाई कम है और पुराना है। आइएमटी के लिए अलग से पुल बनाए जाने की आवश्यकता है।

आइएमटी पर एक नजर
क्षेत्रफल    करीब 1800 एकड़
औद्योगिक प्लॉट  950
बड़ा प्लॉट   20 एकड़
सबसे छोटे प्लॉट  500 वर्ग गज
ट्रांसपोर्ट के लिए   सेक्टर प्रस्तावित
दौरा करने वाली इकाइयां-20

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आइएमटी के आड़े आया संकरा पुल