class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिच्छुओं के लिए सैरगाह बन जाता है दीपक का शरीर

अक्सर किसी व्यक्ति के शरीर पर कोई कीड़ा भी चढ़ जाता है तो वह बैचेन हो जाता है। ऐसे में अगर बिच्छु किसी के शरीर को सैरगाह समझे तो आप क्या कहेंगे?

पटना जिले के बाढ़ प्रखंड के रूपस गांव में रहने वाला 27 वर्षीय दीपक सिंह का शरीर बिच्छुओं का सैरगाह ही बना रहता है। दीपक को बिच्छु पालने का जुनून सवार है जो दिन-प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है। वह एक दो नहीं बल्कि करीब दो दर्जन बिच्छुओं को अपने शरीर में चिपकाए रहता है, जहां बिच्छु भी अठखेलियां करते रहते हैं।

दीपक को कहीं बिच्छु रहने की खबर मिली की नहीं दीपक उन बिच्छुओं को लेने पहुंच जाता है। कोई बिच्छु कितना भी जहरीला हो दीपक उसे पकड़ कर ही दम लेता है। उसके पास अभी करीब 50 बिच्छु हैं। दीपक बताता है कि वह आमतौर पर इन बिच्छुओं को एक बड़े डब्बे में रखता है जहां से दिन में सभी बिच्छुओं वह निकालकर इसे अपने शरीर पर घूमने के लिए छोड़ता है। दीपक बताता है कि इस दौरान उसे न डर लगता है और न ही बिच्छु ही उसे डंक मारते हैं।

दीपक ने बताया कि वह कभी मेकेनिक का कार्य करता था, इसी दौरान वर्ष 1999 में उसे एक बिच्छु ने डंक मार दिया जिससे तीन दिनों तक उसे बुखार हुआ तभी से उसे बिच्छु पालने का सनक सवार हो गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बिच्छुओं के लिए सैरगाह बन जाता है दीपक का शरीर