class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

परमाणु संयंत्र का विरोध हास्यास्पद : हुड्डा

मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला द्वाराफतेहाबाद ज़िले में परमाणु बिजली संयंत्र की स्थापना के विरोध में जारी वक्तव्य को हास्यास्पद बताते हुए कहा कि उनके विरोध से लगता है कि वे नहीं चाहते कि लोगों को चौबीस घंटे बिजली मिले।

हुड्डा सोमवार को यहां प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे। चौटाला के वक्तव्य को निराधार बताते हुए उन्होंने कहा कि वे प्रदेश में बिजली की कमी की समस्या को सुलझाना नहीं चाहते होंगे। उनका कहना था कि ऐसे परमाणु संयंत्र भारत के कई प्रदेशों में पहले से ही स्थापित हैं।

समस्त फ्रांस परमाणु ऊर्जा पर ही निर्भर है। इनेलो प्रमुख ने रविवार को पत्रकारों के समक्ष संयंत्र को लोगों की सेहत व कृषि के लिए हानिकारक बताते हुए उसका विरोध किया था। हुड्डा ने कहा कि फतेहाबाद में परमाणु बिजली संयंत्र स्थापित किया जाना प्रदेश व देश के हित में होगा।

श्री हुड्डा ने चण्डीगढ़ में हरियाणा का अलग हाई कोर्ट बनाने के बाबत कहा कि यह प्रदेश का अधिकार है और केन्द्रीय कानून एवं न्याय मंत्री ने भी कहा है कि राज्य को इसका कानूनी अधिकार है तथा मामला विचाराधीन है।
मुख्य मंत्री ने कहा कि जहां तक क्षेत्रधिकार के मुद्दे का सम्बन्ध है, इसे सुलझाने के लिए उपाय ढूंढे जाएंगे।

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के वक्तव्य की ओर जब उनका ध्यान दिलाया गया तो उन्होंने कहा कि वे पहले ही कह चुके हैं कि यदि पंजाब चंडीगढ़ के बाहर अपना अलग उच्च न्यायालय बनाता है तो हरियाणा भी शहर से बाहर अपना हाईकोर्ट बना लेगा।

उन्होंने कहा कि चंडीगढ़ हरियाणा की राजधानी है और रहेगी। प्रकाश सिंह बादल ने कहा था कि यदि हरियाणा का चंडीगढ़ में अपना अलग उच्च न्यायालय बनता है तो चंडीगढ़ पर पंजाब का दावा प्रभावित होगा।

उन्होंने इस बात का भी खंडन किया कि चंडीगढ़ में हरियाणा काडर के अधिकारियों का कोटा कम हो रहा है। हुड्डा ने स्पष्ट किया कि  या तो चंडीगढ़ में  मुख्य आयुक्त की पुरानी प्रणाली को पुन: बहाल किया जाना चाहिए या फिर पंजाब व हरियाणा के राज्यपालों को बारी-बारी से उसका प्रशासक बनाया जाना चाहिए। इससे पूर्व, बाढड़ा से इनेलो के पूर्व विधायक रणबीर सिंह मंदौला अपने साथियों के साथ कांग्रेस में शामिल हो गए।

हाल के विधान सभा चुनावों में कांग्रेस प्रत्याशियों का विरोध करने वालों के विरूद्घ प्राप्त शिकायतों के सम्बन्ध में पूछे गये एक प्रश्न के सम्बन्ध में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष फूलचन्द मुलाना ने कहा कि 26 लोगों ने शिकायत दर्ज की हैं तथा कथित दोषियों को नोटिस जारी किए गये हैं, जिनमें पूर्व मंत्री किरण चौधरी भी शामिल हैं। उन्हें नोटिसों के जवाब अभी नहीं मिले हैं, क्योंकि अभी जवाब दायर करने का समय बाकी है और यह जवाब कांग्रेस आला कमान को भेजे जाएंगे।

उन्होंने कहा कि लोगों की शिकायतों को सुनने के लिए पार्टी कार्यालय में मंत्रियों के बैठने की प्रथा को पुन: शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पार्टी के लगभग दो लाख सदस्यता फार्म वितरित किए गये हैं। इनमें से 70,000 भरे हुए फार्म वापिस प्राप्त हो चुके हैं। पार्टी की सदस्यता पाने के लिए 31 दिसम्बर अंतिम तिथि है तथा उसके उपरांत चुनाव प्रक्रिया शुरू होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:परमाणु संयंत्र का विरोध हास्यास्पद : हुड्डा