class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैस न मिलने पर लोगों ने एंजेसी पर किया हंगामा

पैसे देने के बावजूद भी गरीब लोगों के घरों में गैस नहीं पहुंच पाती,यही नहीं रसूकदार व दंबगों में घरों में सप्ताह में गैस की डिलवरी दो बार होती है,इसी आरोप के साथ स्थानीय लोगों ने दादरी की एचपी गैस एंजेसी पर हंगामा किया और एंजेसी के साथ साथ पुलिस के खिलाफ भी नारे लगाए। लोगों का इस कदर था कि उन लोगों एंजेसी वर्करो की पिटाई शुरु कर दी जिससे एंजेसी छोड़ वर्कर भाग गए,हालांकि मौके पर पुलिस ने पहुंच मामले को शांत किया। 
सोमवार को एचपी गैस एजेंसी पर सिलेंडर खत्म होने की बात कह लौटा दिया। इससे आक्रोशित होकर लोगों ने गैस एजेंसी पर हंगामा व नारबाजी की। लोगों का कहना है कि हर रोज आम लोगों को सिलेंडर दिए जाने के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है।

एजेंसी पर हर रोज सिंलेडर खत्म हो जाने की बात कहकर उन्हें लौटाया जा रहा है। जबकि प्रभावशाली लोगों के सिलेंडर समय से घर पहुंचा दिए जाते हैं, बचे सिलेंडर गैस माफिया की भेट चढ़ जाते हैं। घरेलू गैस सप्लाई के लिए शहर में भारत व एचपी के नाम से दो गैस एजेंसियां हैं। दोनों एजेंसी पर हर रोज वितरण के लिए करीब एक हजार सिलेंडर आते हैं। इनमें चार सौ से अधिक सिलेंडर ब्लैक कर दिए जाते हैं। दादरी क्षेत्र में करीब चालीस हजार गैस उपभोक्ता हैं। दोनों गैस एजेंसी पर हर रोज आठ सौ से एक हजार तक उपभोक्ता गैस सिलेंडर लेने पहुंचते हैं। लेकिन इनमें मात्र चार सौ लोगों को ही सिलेंडर मिल पाता है। अन्य लोगों को सिलेंडर लिए बगैर ही वापस लौटा दिया जाता है।

कहां होती है कालाबजारी
एलपीजी गैस सिलेंडर की कीमत 307 रुपए है। मोटी कमाई के लिए दलालों के जरिए 500 से 600 रुपए प्रति सिंलेडर की कालाबजारी की जा रही है। होटल, रेस्टोरेंट व क्षेत्र की कई कंपनियों में सिलेंडर की कालाबजारी की जा रही है।


दो गैस एंजेसी को मिलते है प्रतिदिन 3 हजार सिलेण्डर
महज 40 प्रतिशत लोगों को गैस मुहेया होती है
60 प्रतिशत गैस दंबग,होटल व कर्मिशियल प्रयोग में दी जाती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गैस न मिलने पर लोगों ने एंजेसी पर किया हंगामा