class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दवा से दर्द

दिनचर्चा के हिस्से की तरह माउथवॉश इस्तेमाल करने वालों के लिए कुछ ऑस्ट्रेलियाई चिकित्सा विज्ञानियों ने चेतावनी दी है। उनका कहना है कि नियमित माउथवॉश के इस्तेमाल से मुँह के कैंसर का खतरा नौ गुना बढ़ जाता है। इसकी वजह भी तकरीबन वही है, जो तंबाकू खाने से होने वाले मुँह के कैंसर की है। उसमें मौजूद तेज रसायन से मुँह की अंदरूनी त्वचा पर बुरा असर पड़ता है। यह तेज रसायन भी तंबाकू जितना ही आम है- एथिल अल्कोहल। यह वही अल्कोहल है, जो शराब में होता है और यह अच्छा-खासा कीटाणुनाशक होता है, जिसकी वजह से माउथवॉश में इसे इस्तेमाल किया जाता है। यह कैंसर का कारक है यह इस बात से भी सिद्ध होता है कि शराब न पीने वालों में माउथवॉश से कैंसर होने का खतरा सामान्य से पाँच गुना ही होता है।

इसका मतलब यह नहीं कि माउथवॉश इस्तेमाल ही न किया जाए। मुद्दा यह है कि इनका लगातार और ज्यादा इस्तेमाल खतरनाक हो सकता है। दरअसल जब से लुई पास्चर ने रोगों और बैक्टीरिया का संबंध खोज निकाला, तब से सूक्ष्मजीवियों को मार कर स्वस्थ रहने का सिद्धांत जोर पकड़ने लगा। कुछ हद तक यह सिद्धांत ठीक है, लेकिन एक हद से ज्यादा इसके खतरे हैं क्योंकि जो रसायन हम कीटाणुओं को मारने के लिए इस्तेमाल करते हैं, उनके अपने खतरे हैं।

अब तो वैज्ञानिक यह मानने लगे हैं कि थोड़ी बहुत गंदगी से परिचित रहना स्वास्थ्य के लिए अच्छा है, क्योंकि उससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। जाहिर है इसका अर्थ यह नहीं है कि हम गंदगी को भरपूर पनपने दें, लेकिन इसका अर्थ यह जरूर है कि सफाई के लिए रसायनों से ज्यादा अपनी मेहनत पर जोर दें। भारत में तो माउथवॉश का चलन कम है, लेकिन पश्चिमी देशों में अक्सर दांतों की सफाई की मेहनत से बचने के शॉर्टकट की तरह भी माउथवॉश इस्तेमाल होता है और कई लोगों के बैग में माउथवॉश की बोतल रखी होती है जिसे वे गाहे-बगाहे, खासतौर पर किसी विशेष मीटिंग के पहले इस्तेमाल करते हैं। याद रखने की बात यह है कि सफाई का सबसे अच्छा रसायन शुद्ध पानी है और बाकी रसायन सिर्फ उसकी मदद के लिए हैं। इसलिए माउथवॉश इस्तेमाल करने से बेहतर है कि दांत साफ करने में थोड़ा ज्यादा वक्त लगाएं, कुछ खाने के बाद सिर्फ पानी से कुल्ला करें और रसायनों का इस्तेमाल कम से कम करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दवा से दर्द