class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीट के विवाद में खूनी संघर्ष, धारदार हथियार चले

कलसिया के नेहरू इंटर कॉलेज में क्लासरू म में सीट को लेकर हुए मामूली सा झगड़ा आज खूनी संघर्ष में तब्दील हो गया। कॉलेज में ही छात्रों के दो गुटो में हुए सघंर्ष में जमकर धारदार हथियार चले। इस संघर्ष में आधा दजर्न से ज्यादा छात्र घायल हो गए हैं। सूचना मिलने पर पहुंची पुलिस ने बामुश्किल स्थिति को संभाला। एक पक्ष की ओर से इस प्रकरण में कोतवाली में तहरीर दे दी गई है।


छात्रों के मुताबिक, नेहरू इंटर कॉलेज कलसिया में कक्षा दस में अध्ययनरत् दिलनवाज पुत्र जुबेर निवासी नगला झंडा व इसी कक्षा के गांव कलसिया निवासी आदेश पुत्र आनन्द का तीन दिन पूर्व सीट पर बैठने को विवाद हो गया था। जिसके चलते शुक्रवार को दिलनवाज पक्ष ने आदेश की पिटाई कर दी थी। शनिवार को यह विवाद संघर्ष के रूप में तब्दील हो गया।


घायल छात्रों का कहना है कि, शनिवार की सुबह वे कॉलेज में होने वाली प्रार्थना में खडे थे इसी दौरान रवि अपने कॉलेज के साथियों व बाहरी युवकों सहित हाथों में चाकू, पंच, चैन व तलवार आदि धारदार हथियार लेकर पिछली दीवार फांदकर कॉलेज में घुस गए और हथियारों से हमला कर दिया जबकि दूसरे पक्ष का कहना है कि दिलनवाज पक्ष ने शुक्रवार को अकारण ही आदेश की पिटाई की थी। कॉलेज में हुए संघर्ष से कॉलेज में अफरा-तफरी का माहौल उत्पन्न हो गया। कॉलेज प्रशासन ने घटना की सूचना कोतवाली बेहट पुलिस को दी लेकिन पुलिस के मौके पर पहुंचने से पहले ही हमलावर फरार हो गए।


इस संघर्ष में एक पक्ष के दिलनवाज के अलावा रोहिल पुत्र मसूद, फरमान उर्फ शेरू पुत्र रिजवान, फैसल पुत्र महमूद, शाबिर पुत्र सलीम, मुदस्सीर पुत्र इस्तखार निवासी गांव नगला झंडा व दूसरे पक्ष के रवि पुत्र देशराज, आदेश पुत्र आनन्द निवासी गांव कलसिया गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
कड़ी कार्रवाई होगी: प्रधानाचार्य

छात्रों के संघर्ष की वजह से कालेज की छवि की किरकिरी होती देख कालेज प्रबंधन ने भी सख्त रूख अख्तियार कर लिया। प्रधानाचार्य अनिल कुमार शर्मा ने कहा कि, इस मामले को गंभीरता से लिया गया है। कॉलेज का माहौल खराब करने वाले छात्रों के विरूद्घ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीट के विवाद में खूनी संघर्ष, धारदार हथियार चले