class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तल्लानागपुर में पानी का संकट गहराया

तल्लानागपुर क्षेत्र में पानी का संकट गहराता जा रहा है। तुंगनाथ भुलकना स्नोत पर पानी होने के बाद भी ग्रामीणों के हलक सूखे हुए हैं। पिछले दो सप्ताह से क्षेत्र के दजर्न भर से अधिक गांव के लोगों को मीलों पैदल चलकर भी पानी नसीब नहीं हो रहा है।

पेयजल योजना की मरम्मत पर जल निगम ने पिछले छह सालों में सवा करोड़ से भी ज्यादा खर्च कर दिया है लेकिन स्थिति में सुधार नहीं आया। वहीं पंपिंग योजना के लिए 32 करोड़ 17 लाख का प्रस्ताव भी वित्तीय स्वीकृति न मिलने से एक साल से शासन में लटका पड़ा है।

जनपद का तल्लानागपुर क्षेत्र करीब 30 सालों से पेयजल संकट से जूझ रहा है। गर्मियों में तो यहां पानी का गंभीर संकट पैदा होता ही है किंतु अब सर्दियों में भी गांव के गांव पेयजल संकट से परेशान हैं। करीब 38 किमी लम्बी पेयजल लाइन पुरानी होने के कारण जगह-जगह क्षतिग्रस्त हो चुकी है जबकि अनेक स्थानों पर पानी का रिसाव हो रहा है जिससे ग्रामीण क्षेत्रों तक पानी की आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

यही कारण है कि क्षेत्र के 66 गांवों में से 20 से अधिक गांवों में इन दिनों भी भारी पेयजल संकट पैदा हो गया है। उल्लेखनीय है कि तल्लानागपुर क्षेत्र को पानी के संकट से निजात दिलाने के लिए वर्ष 1987-88 में तुंगनाथ-भुलकना स्रोत से तल्लानागपुर पेयजल योजना का निर्माण किया गया। तब से आज तक इस क्षेत्र में पानी का संकट दूर नहीं हो पाया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तल्लानागपुर में पानी का संकट गहराया