class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पासपोर्ट बनाने से पहले टफ हुआ पुलिस वेरिफिकेशन

फर्जी पासपोर्ट बनने के कई मामलों के बाद पुलिस वेरिफिकेशन टफ हो गया है। अब वेरिफिकेशन पर नोडल अफसर के साइन और मोहर होगी। गलत वेरिफिकेशन पर उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। पासपोर्ट अधिकारी ने पुलिस वेरिफिकेशन को ध्यान में रखकर नौ दिसंबर को सभी नोडल अफसरों की मीटिंग बुलाई है।


लखनऊ और गाजियाबाद में फर्जी दस्तावेजों पर बने पासपोर्ट के मामले में कार्यालय सख्त हो गया है। पासपोर्ट अफसर ने आगरा, अलीगढ़, सहारनपुर और मेरठ मंडल के सभी पुलिस कप्तानों को पत्र लिखा है कि कवरिंग लेटर के साथ गए मामलों का ही वेरिफिकेशन कराया जाए। वेरिफिकेशन पर नोडल अफसर के साइन के साथ उसकी मोहर भी लगाई जाए। इससे वेरिफिकेशन का प्रोसेस सही होगा और गलत वेरिफिकेशन की गुंजाइश नहीं रहेगी। पासपोर्ट अफसर अमरेंद्र सेंगर ने बताया कि सभी नोडल अफसरों की एक महत्वपूर्ण मीटिंग नौ दिसंबर को बुलाई गई है। इसमे पासपोर्ट को लेकर ही चर्चा होगी। सेंगर ने बताया कि अब तत्काल पासपोर्ट के मामले में भी ज्यादा सावधानी बरती जा रही है। संबंधित अफसर के कार्यालय में फैक्स किया जाता है और उससे फोन पर वेरिफिकेशन भी किया जाता है। गाजियाबाद और नोएडा में पुलिस वेरिफिकेशन सात दिनों में हो जाता है और पासपोर्ट तैयार होने के साथ वेरिफिकेशन रिपोर्ट मिल जाती है। फर्जी पासपोर्ट के मामले मिलने के बाद विभाग ज्यादा सावधान हो गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पासपोर्ट बनाने से पहले टफ हुआ पुलिस वेरिफिकेशन