class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सैकडों शादियां लेकिन अस्थायी कनेक्शन बेहद कम

शहर में हर ओर विवाहोत्सवों की धूम है। आकर्षक विद्युत झालरों की सजावट से घर आंगन और लॉन गुलजार हैं, मगर बिजली बिना अस्थायी कनेक्शन लिए इस्तेमाल की जा रही है। कम से कम अस्थायी कनेक्शन के आंकड़े तो यही बयान कर रहे हैं।

उत्सवों के लिए अस्थायी बिजली कनेक्शन देने का प्रावधान है, ताकि विभाग का राजस्व बढ़े। मगर बिजली विभाग के लिए कम और कर्मचारियों के लिए उत्सव अधिक लाभदायक साबित हो रहे हैं। एक दिसम्बर को जबर्दस्त लगन रहा। कमोबेश शहर का हर लॉन या मुहल्ला उत्सवों के दौरान बिजली की सजावट से जगमग रहा।

ऐसे में अस्थायी बिजली कनेक्शन से विभाग को बड़ी रकम मिलनी तय थी लेकिन विभागीय लोगों ने ही उम्मीद पर पानी फेर दिया। नियमानुसार अस्थायी कनेक्शन के लिए एक दिन का चार्ज डेढ़ हजार रुपये है। जानकारों के अनुमान के मुताबिक इस साल लगन कम होने के कारण महज एक दिन में ही शहर में करीब 300 विवाहोत्सव हुए।

यानी दोनों पक्षों के मिलाकर लगभग 6 सौ आवास या लॉन गुलजार हुए जबकि अस्थायी कनेक्शन के लिए करीब 45 आवेदन आए। यानी जिम्मेदार कर्मियों के व्यक्तिगत खाते में धनराशि दर्ज हो गयी या वे काम के प्रति इतने लापरवाह रहे कि विभागीय नियमों की अनदेखी की और बिजली चोरी की ओर ध्यान नहीं दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सैकडों शादियां लेकिन अस्थायी कनेक्शन बेहद कम