class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सांध्यकालीन कोर्टों के बारे में हाईकोर्ट ने राय माँगी

हाईकोर्ट ने प्रदेश के सभी जिला न्यायाधीशों को पत्र भेजकर निर्देश दिया है कि बार के सदस्यों व न्यायिक अधिकारियों की सांध्यकालीन अदालतों में कार्य करने की इच्छा के बारे आख्या प्रस्तुत करें। केंद्र सरकार ने सांध्यकालीन अदालतें चलाने के लिए प्रस्ताव किया था।

हाईकोर्ट के संयुक्त निबंधक (इन्सपेक्शन) सलीम अहमद खान (एचजेएस) द्वारा प्रदेश के सभी जिला न्यायाधीशों को प्रेषित पत्र (पत्र संख्या 15987/2009/ एडमिन/जी. टू दिनांक इलाहाबाद 27/11/2009) में कहा गया है कि बार एसोसिएशन से फ्रेस रिपोर्ट प्राप्त कर इस बारे में आख्या भेजें, ताकि उसे अदालत के समक्ष पेश किया जा सके।

पत्र में कहा गया है कि ‘सांध्यकालीन अदालतों के बारे में बार के सदस्यों व न्यायिक अधिकारियों की इच्छा’ विषयक संदर्भ पर विचार करने के बाद माननीय अदालत द्वारा प्रदेश के सभी अधीनस्थ अदालतों व बार एसोसिएशनों से नई आख्या तलब करने को कहा गया है।

आख्या में यह बताने को कहा गया है कि बार एसोसिएशन से आख्या प्राप्त करें कि बार के सदस्यगण सांध्यकालीन अदालत (शिफ्ट सिस्टम) में कार्य करना चाहते हैं, अथवा नहीं? इसी तरह की आख्या न्यायिक अधिकारियों की इच्छा के संबंध में भी पेश करने को कहा गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सांध्यकालीन कोर्टों के बारे में हाईकोर्ट ने राय माँगी