class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्कूली बच्चों की निगाहबानी को पुलिस का एक्शन प्लान

कॉनवेंट स्कूलों से लेकर हाईस्कूल और इंटर के छात्रों की निगाहबानी अब पुलिस भी करेगी। इसके लिए पुलिस ने एक्शन प्लान तैयार किया है। इसमें पुलिस के साथ अभिभावक और स्कूल मैनेजमेंट की बराबर से भागीदारी होगी। स्कूल से गायब होकर ही बच्चों उलटे सीधे फेर में पड़ रहे हैं, ऐसे मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

हर दस दिनों में एक स्कूली छात्र लापता होता है या फिर वह किसी दूसरे मामलों में फँसता पाया जाता है। पुलिस का मानना है कि शरारत की शुरूआत बच्चों के स्कूल से गायब होने से ही शुरू होती है, ऐसे में सबसे पहले इसी पर लगाम लगाए जाने की जरूरत है।

आईजी सूर्य कुमार शुक्ला ने शहर के सभी कॉनवेंट, हाईस्कूल और इंटर कालेजों में एक नोटिस जारी करने का निर्देश दिया है। आईजी के मुताबिक, लगातार पाँच या इससे अधिक दिनों तक यदि कोई छात्र-छात्र स्कूल नहीं आए तो स्कूल मैनेजमेंट को तत्काल अभिभावकों से संपर्क करना होगा। स्कूल से गायब रहने के अलावा यदि उस छात्र-छात्र के बारे में कोई भी संदिग्ध बात पता चले तो भी घरवालों को बताया जाए।

बच्चों की हरकतें अजीब हों, परेशान हो तो भी उसके बारे में पूरी जानकारी रखें और अभिभावकों से संपर्क कर चर्चा करें। आईजी ने यह भी निर्देश दिया है कि बच्चा स्कूल से गायब रहे, संदिग्ध हरकत करे तो संबंधित थाने या फिर पुलिस अधिकारी के कार्यालय में भी सूचित किया जाए। आईजी ने इसके लिए माह में एक बार पुलिस, स्कूल मैनेजमेंट और अभिभावकों की मीटिंग का भी निर्देश दिया है।

उन्होंने अभिभावकों को भी इस नोटिस की जानकारी देने को कहा है। साथ ही अभिभावकों को निर्देश हुआ है कि वह बच्चों के बारे में संदिग्ध बातें छिपाए नहीं बल्कि पुलिस को जानकारी दें इससे आने वाली परेशानी दूर की जा सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्कूली बच्चों की निगाहबानी को पुलिस का एक्शन प्लान