class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मौत को आमंत्रण दे रहे राष्ट्रीय उच्च पथों के पुल

 सूबे की राष्ट्रीय उच्च पथों के पुल-पुलिये मौत को आमंत्रण दे रही हैं। सूबे से गुजरने वाली 28 राष्ट्रीय उच्च पथों में 18 पथों पर अवस्थित वर्षो पुराने ये पुल मौत को गले लगाने को बेताब हैं। जब तक कोई हादसा नहीं हो जाता है तब तक ही वे सुरक्षित हैं। 10 मीटर से लेकर 100 मीटर तक लम्बाई वाले 278 पुल दयनीय हालत में हैं। नीतीश शासन में 100 मीटर से बड़े पुलों में अधिसंख्य को चलने लायक बना दिया गया है। उनकी आवश्यकतानुसार मरम्मत की गई है। पर 100 मीटर से छोटे पुलों की हालत काफी खराब है।

आजादी के 62 साल बाद भी राष्ट्रीय उच्च पथों पर गाड़ियां लकड़ी के पुलों पर से गुजर रही हैं। कहीं अंग्रेज कालीन निर्मित स्क्रू पाइल पुल पर से भगवान का नाम लेकर गाड़ियां इस पार से उस पार जा रही हैं तो ह्यूम पाइप से निर्मित कई पुल अब भी राष्ट्रीय उच्च पथों की शोभा बढ़ा रहे हैं। दरभंगा जयनगर (एनएच-105) पथ पर 60 साल पुराने पुल से अब भी गाड़ियां गुजर रही है। दरभंगा से 5 वें और 7 वें किमी. पर अवस्थित 13 मी. और 20 मीटर लम्बाई वाले ये पुल कब गिरेगे इसकी गारंटी सरकार भी देन को तैयार नहीं है।

गया-राजगीर-बरबीघा-मोकामा (एनएच-82) पथ पर गया से 110 वें किमी. पर 69 मीटर लम्बा आरसीसी पुल  के पुनर्निर्माण की जरूरत है। फतुहा-हरनौत-बाढ़ (एनएच-30 ए) पथ पर अब भी लकड़ी से निर्मित पुल से गाड़ियां भगवान भरोसे गुजर रही हैं। फतुहा से 61 वें और 64 वें किमी. की दूरी पर 85 मीटर और 75 मीटर लम्बाई के अंग्रेज के जमाने के बने लकड़ी के इस पुल से गाड़ियां धीरे-धीरे पार होती हैं। पटना-नौबतपुर-अरवल-औरंगाबाद-रजहरा (एनएच-98) पथ के पुलों की हालत भी दयनीय है।

कई छोटे पुलिये हैं जिनकी शीघ्र निर्माण की जरूरत है। छपरा-रेवाघाट- मुजफ्फरपुर (एनएच-102) की हालत भी काफी खराब है। दो दर्जन ऐसे पुलिये हैं जिन पर चढऩे क पूर्व गाड़ियों के ड्राइवर रोज भगवान की गुहार लगाते हैं। मोहनिया-आरा-पटना-बख्तियारपुर (एनएच-30), मोकामा-भागलपुर (एनएच- 80), रजौलीघाटी- बख्तियारपुर-बरौनी- पूर्णिया-किशनगंज (एनएच-31), छपरा-सीवान-गोपालगंज (एनएच-85) समेत कई और राष्ट्रीय उच्च पथों के पुलों की हालत दयनीय है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मौत को आमंत्रण दे रहे राष्ट्रीय उच्च पथों के पुल