class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वर्ल्ड बैंक की मदद से बिजली व्यवस्था के दिन फिरेंगे

वर्ल्ड बैंक की मदद से हरियाणा में बिजली व्यवस्था के दिन फिरने वाले हैं। उपभोक्ताओं के लिए ऑटोमेटिक सिस्टम जीपीआरएस के तहत कंट्रोल रूम बनाए जाएंगे। जहां से न केवल बिजली का लोड कंट्रोल किया जाएगा। मीटर रीडिंग भी कंट्रोल रूम में बैठे दर्ज कर ली जाएगी। इसके लिए न तो मीटर रीडर की कोई जरूरत होगी। न ही उपभोक्ताओं के यहां घर-घर जाने की।

पहले चरण में इस योजना के तहत 10 किलोवाट या इससे अधिक लोड वाले उपभोक्ताओं को शामिल किया जाएगा। डीएचबीवीएन में ऐसे उपभोक्ताओं की संख्या लगभग 80 हजार है। उपभोक्ताओं के यहां नई टेक्नोलोजी के मीटर लगाए जाएंगे। सर्कल वाइज कंट्रोल रूम बनाया जाएगा, ताकि उपभोक्ताओं को दी जाने वाली अच्छी क्वालिटी की बिजली पर पूरी निगरानी रखी जा सके। रिमोट कंट्रोल से इन उपभोक्ताओं के लोड को भी कंट्रोल किया जा सकेगा। पीक समय के दौरान कंट्रोल रूम से ही इनकी बिजली कंट्रोल की जा सकेगी।

विशेष हालातों में यहां से सप्लाई सुचारू रूप से चलाई जा सकती है। हाईवोल्टेज डिस्ट्रीब्यूशन सिस्टम के तहत बिछाई जाने वाली लाइनों सें इन उपभोक्ताओं को फॉल्ट से मुक्ति मिल सकेगी। कार्यकारी अभियंता संजीव चोपड़ा ने बताया कि इस सिस्टम के तहत रीडिंग के लिए मीटर रीडर की कोई जरूरत नहीं। इससे बिजली चोरी पर भी अंकुश लगेगा। जो निगम के लिए काफी कारगर होगा। कंट्रोल रूम सर्कल वाइज बनाए जाएंगे।

वर्ल्ड बैंक की मदद से इस काम को नए वर्ष से अमलीजामा पहनाना शुरू कर दिया जाएगा। अब से पहले रीडिंग का काम मैनुअल तरीके से होता रहा है। इससे तीन प्रक्रियाओं से गुजरने के बाद बिल बनाया जाता है। सबसे पहले मीटर रीडर रीडिंग लेकर उसे अपने रिकार्ड में चढ़ाता है। इसके बाद वह रीडिंग सीट में दर्ज की जाती है। बाद में उसे कंप्यूटरों में फीड किया जाता है।

इसके आधार पर ही बिल बनाया जाता है। ऐसे में अक्सर गलती होने की संभावनाएं बनी रहती है। मीटर रीडर द्वारा गलत रीडिंग लेने की शिकायतें भी मिलती रही हैं। गलत रीडिंग के चलते उपभोक्ता को बिल ठीक कराने के लिए दफ्तरों के कई चक्कर लगाने पड़ जाते हैं। लेकिन इस नई व्यवस्था से ऐसे उपभोक्ताओं को सभी दिक्कतों से निजात मिलेगी। फरीदाबाद में 10 किलोवाट से अधिक उपभोक्ताओं की संख्या 25 हजार 630 है। जिन्हें इस योजना का भरपूर लाभ होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:वर्ल्ड बैंक की मदद से बिजली व्यवस्था के दिन फिरेंगे