class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंधेरे में डूबी सड़कें बनी क्राइम जोन


 शाम होते ही शहर की ज्यादातर सड़कों पर अंधेरा पस जाता है। अंधेरे में डूबी सड़कें अब क्राइम जोन बन गई हैं। इसका ताजा उदाहरण शनिवार को गिझोड़ के पास रेड लाइट पर कैशियर साथ हुई 80 हजार रुपए की लूटपाट का मामला है। अंधेरे का फायदा उठाकर ही बदमाशों ने केशियर से 80 हजार रुपए लूटपाट ले गये।

ज्ञात हो कि स्ट्रीट लाइटों की मरम्मत पर अथॉरिटी प्रतिमाह भरी-भरकम राशि खर्च करती है। बावजूद इसके शहर की अधिकांश सड़कों पर अंधेरा छाया रहता है। सेक्टर 24,58 कोतवाली से लेकर अन्य कई क्षेत्रों में ऐसे कई उदाहरण है, जहां अंधेरे के कारण लूटपाट की वारदातें हुई हैं।

सड़कों पर अंधेरा होने के कारण लूटपाट की कई वारदातों के बाद भी न तो पुलिस नींद से जगी है, न ही अथॉरिटी को अंधेरे में डूबी इन सड़कों पर स्ट्रीट लाइटों की मरम्मत करवाने का ख्याल है। वारदात-दर-वारदात होने के बाद भी 12-22 चौराहे से आगे जाने वाली सड़क, सेक्टर-57 चौकी से होशियारपुर की ओर जाने वाली सहित कई ऐसी सड़के हैं, जहां एक सप्ताह से भी अधिक दिनों से स्ट्रीट लाइट खराब पड़ी हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अंधेरे में डूबी सड़कें बनी क्राइम जोन