class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सप्तसागर मंडी में छापेमारी, एक लाख की दवाएं सीज

मैदागिन क्षेत्र स्थित सप्तसागर की थोक दवा मंडी में बुधवार को स्वास्थ्य विभाग ने छापेमारी कर बगैर बिल-पुर्जा वाली करीब एक लाख रुपये कीमत की दवाओं को सीज़ कर दिया। दिनभर चली इस कार्रवाई के दौरान वाराणसी, जाैनपुर व गाजीपुर के अधिकारियों ने सात दुकानों के अभिलेखों की पड़ताल की। उन्होंने कई पत्रवलियां जब्त भी कर लीं।

दुकानों से जांच के लिए 12 सैंपल एकत्र किये गये। दोपहर करीब 12 बजे जांच टीम में शामिल एसीएम बी राम, एडीशनल सीएमओ डॉ. आरपी तिवारी कोतवाली से भारी फोर्स लेकर सप्तसागर दवा मंडी पहुंचे। छापामार टीम देखकर मंडी में हड़कंप मच गया। कई कारोबारी दुकान बंद कर भाग खड़े हुए, लेकिन अधिकांश दुकानें खुली रहीं। कार्रवाई के दौरान कई व्यापारी नेता भी मौके पर पहुंचे।

उन्होंने जांच टीम को यह कहते हुए बगैर पुलिस फोर्स के आने का आग्रह किया कि इससे मंडी में भय का माहौल बन जाता है। टीम ने यश मेडिकल एजेंसी, मां वैष्णो मेडिकल एजेंसी, पाल मेडिकल एजेंसी, दुर्गेश मेडिकल एजेंसी, सुनील सजिर्कल, अवधेश ब्रदर्स व शांति फार्मा में दवाओं के स्टॉक, उनकी खरीद-बिक्री आदि का रिकार्ड देखा।

इस दौरान कुछ दुकानों में ऐसी दवाएं भी मिलीं जिनकी खरीद-बिक्री का कोई ब्योरा दुकानदार नहीं दे सके। डॉ. तिवारी के मुताबिक उन दवाओं को सीज करते हुए तीन दिन में संबंधित अभिलेख पेश करने के निर्देश दिये गये हैं। छापामार दस्ते में मंडलस्तरीय वरिष्ठ ड्रग इंस्पेक्टर के. राम, वाराणसी के डीआई एजाज अहमद, गाजीपुर के डीआई बृजेश यादव व जाैनपुर के डीआई नरेश मोहन भी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सप्तसागर मंडी में छापेमारी