class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आयुर्वेद में है स्वाइन फ्लू का अचूक इलाज’

बाबा रामदेव ने कहा कि स्वाइन फ्लू से घबराने की जरूरत नहीं है। आयुर्वेद में स्वाइन फ्लू का अचूक इलाज है। घर के आसपास या किसी भी पार्क में मिल जाने वाला गिलोय स्वाइन फ्लू ही नहीं किसी भी वायरस से उत्पन्न बीमारी पर काबू पाने में पूरी तरह सफल है। गिलोय को गुरची और अमृतबल्ली भी कहते हैं। इसका अंग्रेजी नाम टिनोसपोरा है। उन्होंने कहा कि गिलोय और तुलसी के तीन पत्ते के सेवन से घंटों में ही स्वाइन फ्लू का भूत तो भागता ही है।

उन्होंने कहा कि श्वसन प्रक्रिया और और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर बनाने के लिए भस्त्रिका, कपालभाति और अनुलोम-विलोम योग करना चाहिए ।मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन के प्रोफेसर डा. एन. पी. सिंह ने इस बारे में बताया कि स्वाइन फ्लू से प्रभावित होना और नहीं होना हमारे शरीर की प्रतिरोधी क्षमता पर भी निर्भर करता है। अगर किसी दवा, जड़ी बूटी या किसी अन्य पदार्थ से हमारे शरीर की प्रतिरोधी क्षमता बढ़ती है तो यह निश्चित रूप से संक्रमण से बचाने में सहायक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आयुर्वेद में है स्वाइन फ्लू का अचूक इलाज’