class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सरकार ने लांच की नई योजना, मिट्टी जांच के लिए 15 नई प्रयोगशालाएं

अब वह दिन दूर नहीं जब राज्य के सभी किसानों के हाथ में होगा स्वायल हेल्थ कार्ड (मिट्टी जांच रिपोर्ट)। यानी अपने खेत की मिट्टी की पूरी संरचना से वे वाकिफ़ होंगे। इससे खेतों में छिड़काव के समय खाद और कीटनाशी दवाओं की मात्र के निर्धारण में उन्हें सहायता मिलेगी। रसायनिक खादों के अंधाधुंध प्रयोग से उर्वरा शक्ति को कम होने से बचाया जा सकेगा। जैविक खादों का प्रयोग बढ़ेगा और उत्पादों की कीमतों में उछाल के साथ किसानों की जेबें भी भारी होंगी। 

सरकार ने इसके लिए एक नई योजना लांच कर दी है। इस योजना से पुरानी योजना को गति मिलेगी और स्वायल हेल्थ कार्ड देने का लक्ष्य जल्द प्राप्त किया जा सकेगा। नई योजना का नाम रखा गया है ‘ प्रोजेक्ट ऑन मैनेजमेंट आफ स्वायल हेल्थ एन्ड फर्टिलिटी’। इसके अनुसार सूबे में  मिट्टी जांच की 15 नई प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी। इतनी ही संख्या में मिट्टी जांच के लिए चलंत प्रयोगशालाएं होंगी और दजर्न भर पुराने लैबों में माईक्रो न्यूट्रिएंट जांच करने की सुविधा दी जाएगी। साथ ही 1200 पदाधिकारियों को मिट्टी जांच की ट्रेनिंग दी जाएगी।

पुराने लैबों में नई सुविधा देने पर होने वाले पूरे खर्च का वहन केन्द्र सरकार करेगी जबकि चलंत लैबों की व्यवस्था में 25 प्रतिशत राशि राज्य सरकार को खर्च करनी होगी। नई प्रयोगशालाएं लगाने में आधी राशि राज्य सरकार और आधी केन्द्र सरकार खर्च करेगी। योजना पर म शुरू हो गया है और केन्द्र सरकार ने अपने हिस्से की आधी रकम राज्य सरकार को उपलब्ध करा दी है। राज्य सरकार ने 13 नये मिट्टी जांच केन्द्रों की स्थापना के लिए स्थान का चयन कर लिया है। नूरसराय और सहरसा के नये कृषि महाविद्यालयों के अलावा राजेन्द्र कृषि विश्वविद्यालय के सभी क्षेत्रीय केन्द्रों में इसकी स्थापना होगी।

कृषि मंत्री रेणु कुमारी ने बताया कि सभी किसानों को स्वयल हेल्थ कार्ड जल्द उपलब्ध करा देने में यह योजना सहायक होगी। सरकार ने पहले से भी यह तय किया था कि हर जिले में मिट्टी जांच केन्द्रों की स्थापना होगी। 22 जिलों में यह पहले से काम कर रहा है। शेष 16 जिलों में भी इसके लिए भवन बनाये जा रहे हैं। अब यह काम आसान होगा। उप निदेशक (मृदा) वैद्यनाथ यादव ने बताया कि इन केन्द्रों में काम करने के लिए 1200 अधिकारी विश्वविद्यालय के विभिन्न केन्द्रों में प्रशिक्षित किये जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हर किसान के हाथ में होगा स्वायल हेल्थ कार्ड