class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आप ही कर सकते हैं नीलगायों की नसबंदी!

विधान परिषद में शुक्रवार को नीलगाय द्वारा फसलों को नुकसान पहुँचाने का मुद्दा उठा। चर्चा के दौरान उस वक्त हंसी के फुलझड़ी छूटी जब रालोद के डा. हरि सिंह ढिल्लो ने सुझव दिया कि नीलगायों की बढ़ती संख्या रोकने का आसान उपाय है कि इनकी नसबंदी का अभियान चलाया जाए। इस पर सभापति ने चुटकी ली कि यह काम आप ही कर सकते हैं।

नीलगायों के आतंक का मुद्दा नियम 105 के तहत सदन में शुक्रवार को रालोद के मुन्ना सिंह चौहान ने उठाया था। उन्होंने सदन को बताया कि नीलगाय दलहन व तिलहन की फसलों को नुकसान पहुँचा रहे हैं। इन्हें मारने का अधिकार केवल उन्हीं के पास है जिसके पास लाइसेंस है। इन्हें मारने का अधिकार सभी किसानों को दिया जाए तभी इस समस्या से निजात मिल सकती है।

इन्हें मारने के बाद दफनाने की शर्त भी कठिन है, लिहाजा इसमें भी छूट मिले। सभापति चौधरी सुखराम सिंह यादव ने कहा कि यह गंभीर समस्या है। इनकी संख्या साल में दोगुनी रफ्तार से बढ़ रही है क्योंकि ये साल में दो बार प्रजजन क्रिया से गुजरते हैं। उन्होंने इस बारे में सरकार को गंभीरता से विचार करने को कहा। इस पर सरकार की तरफ से जरूरी कार्रवाई करने का आश्वासन दिया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आप ही कर सकते हैं नीलगायों की नसबंदी!