class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बालों का टूटना

सिर के बाल गिरने लगें तो परेशानी होना लाजिमी है। कभी कोई नुस्खा लगाते हैं, कभी कोई ताकीद आजमाते हैं, लेकिन बाल टूटने क्यों शुरू हुए, यह सच्चाई पता लगकर ही नहीं देती। कई बार मसला बिल्कुल सीधा-सरल होता है। इनमें से अधिकांश स्थितियों में उपयुक्त उपाय कर बाल टूटने की क्रिया को रोका जा सकता है।

कितने बाल गिरना सामान्य है : सिर के बाल रोजाना 035 मिलीमीटर की दर से बढ़ते हैं। एक महीने में उनकी लंबाई आधा इंच बढ़ जाती है। पर यह क्रम सदा नहीं बना रहता। वृद्घि का यह दौर अधिकतर लोगों में दो से छह साल तक चलता है। फिर बाल आराम फरमाने लगते हैं। विश्राम का दौर चंद महीनों का होता है, लेकिन इस बीच बालों की ताकत घट जाती है और वे आसानी से गिर जाते हैं। प्रकृति ने यह पूरी सावधानी बरती है कि सिर एक साथ गंजा न हो जाए। किसी एक समय पर सिर के 10 प्रतिशत बाल ही विश्राम के दौर में पहुंचते हैं, उनमें से भी कई गिरने से बच जाते हैं। 

लेकिन कुछ लोगों में बालों के बढ़ने का दौर छोटा होता है, जिससे उन्हें यह लगता है कि उनके बाल सदा झड़ते ही रहते हैं। यह व्यक्तिगत गुण है जिससे मुक्त हो पाना न तो किसी के हाथ में है, न किसी केश-तेल, औषधि या वनस्पति से संभव है। कंघी करने पर बीस-पच्चीस बाल गिर जाना आम बात है। सब कुछ सामान्य होने पर भी कभी-कभार पूरे दिन में 100 बाल तक झड़ सकते हैं। जब तक बाल गिरने और नए बाल उगने की गति में कोई अंतर्विरोध न आए और सिर पर बालों की भरपाई होती रहे, चिंता की कोई बात नहीं।

बालों के साथ अधिक सख्ती ठीक नहीं। कुछ लोग बाल काढ़ते और बांधते समय उनके साथ ज्यादती कर बैठते हैं। इस गलती से उबरना व्यक्ति के अपने हाथ में है।
जारी..

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बालों का टूटना