class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

देश में इस साल पडेंगे दो ही ग्रहण, तिकडी़ की बात भ्रामक

देश में इस साल पडेंगे दो ही ग्रहण, तिकडी़ की बात भ्रामक

:इस साल पड़ने वाले सूर्यग्रहण और चंद्रग्रहण को लेकर देश के पंडितों और ज्योतिषाचार्य का कहना है कि इस वर्ष भारत में केवल दो ही ग्रहण दिखायी पड़ेंगे इसलिये यह कहना गलत है कि इस वर्ष ग्रहणों की सीरीज पड़ेगी। ग्रहण वही माने जाते हैं जो जहां दिखायी पड़ते हों क्योंकि उनका प्रभाव भी वहीं पड़ता है जहां वे दिखाई पडते हैं।

श्री काशी विश्वनाथ न्यास के अध्यक्ष पंडित हरिहर कपालु त्रिपाठी ने कहा कि भारत में इस वर्ष ग्रहणों की हैट्रिक नहीं हो रही है। यहां इस वर्ष सिर्फ दो ग्रहण दष्टिगोचर होंगे। पहला बाइस जुलाई को पड़ने वाला सूर्यग्रहण है और दूसरा वर्ष के अंतिम दिन पड़ने वाला खंड चंद्रग्रहण होगा।

अखिल भारतीय विद्वत परिषद के राष्ट्रीय संयोजक डा कामेश्वर उपाध्याय ने कहा कि वास्तव में ग्रहण का महत्व विश्व के उसी भाग में होता है जहां यह दिखाई पड़ता है लेकिन आज का मीडिया अधिकतर यह प्रचारित कर रहा है कि विश्व के किसी भी भाग में लगने वाला ग्रहण पथ्वी के सभी लोगों के लिए समान महत्व का होता है। उन्होंने कहा कि यह प्रचार भ्रामक है।

ज्योतिषविद गुरुप्रसाद दीक्षित ने बताया कि कई स्थानों पर सात जुलाई को हुए चंद्र ग्रहण एवं अगस्त में पड़ रहे चंद्रग्रहण को भी देश में होने वाले ग्रहणों की तर्ज पर दिखाया जा रहा है जो उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि ये दोनों चंद्रग्रहण भारत में नहीं दिखेंगे। ऐसे में उन्हें जोड़कर यहां ग्रहणों की सीरीज बताने की बात भ्रामक है। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस वर्ष देश में सिर्फ दो ही ग्रहण पड़ रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:देश में इस साल पडेंगे दो ही ग्रहण