class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माकपा पोलित ब्यूरो से हटाए गए अच्युतानंदन

माकपा पोलित ब्यूरो से हटाए गए अच्युतानंदन

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) की केरल इकाई में वरिष्ठ नेताओं के बीच लंबे समय से चल रहे विवाद को खत्म करने के लिए नई दिल्ली में दो दिनों तक चली पार्टी की केंद्रीय समिति की बैठक में मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन को पोलित ब्यूरो से बाहर करने का फैसला किया गया है।

पार्टी ने इस मामले में केरल राज्य इकाई के सचिव पिनराई विजयन का पक्ष लिया है। बैठक के बाद पार्टी की ओर से जारी बयान में कहा गया कि विजयन भ्रष्टाचार के किसी भी मामले में संलिप्त नहीं हैं। पार्टी उनके खिलाफ लगे आरोपों का राजनीतिक और कानूनी तरीके से सामना करने को तैयार है। बयान में केरल इकाई में जारी विवाद को भी स्वीकार किया गया और कहा गया कि राज्य समिति को पूरी पार्टी को एकजुट बनाए रखना चाहिए।

एसएनसी लवलीन मामले में विजयन पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों के संबंध में अच्युतानंदन द्वारा की गई टिप्पणी को पार्टी ने अनुशासनहीनता करार देते हुए कहा कि पार्टी को उम्मीद है कि कॉमरेड अच्युतानंदन बतौर मुख्यमंत्री और राज्य में पार्टी के नेता के रूप में जिम्मेदारियों का निर्वाह करेंगे। बयान के मुताबिक अच्युतानंदन द्वारा किए गए संगठनात्मक सिद्धांतों और अनुशासन के उल्लंघन को देखते हुए उन्हें पोलित ब्यूरो से बाहर किए जाने का फैसला किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:माकपा पोलित ब्यूरो से हटाए गए अच्युतानंदन