class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ताश के पत्तों की तरह ढही पाक पारी

ताश के पत्तों की तरह ढही पाक पारी

पेसर नुवान कुलशेखरा की घातक गेंदबाजी से पाकिस्तान को 90 रन पर ढेर करने के बाद कप्तान कुमार संगकारा की जांबाज पारी से श्रीलंका ने दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच पर रविवार को पहले दिन ही अपना शिकंज कस दिया।

कुलशेखरा ने अपने कैरियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 21 रन देकर चार विकेट लिए। उनके अलावा बाएं हाथ के तेज गेंदबाज  थिलन थुषारा ने दो विकेट हासिल किए जबकि स्पिनर अजंथा मेंडिस ने अंतिम तीन बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा जिससे टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी के लिए उतरी पाकिस्तान की पारी 36 ओवर में ही सिमट गई। पाकिस्तान के आठ बल्लेबाज दोहरे अंक में भी नहीं पहुंचे तथा पूर्व कप्तान शोएब मलिक ही सारा ओवल में खेले जा रहे मैच में गेंदबाजों का डटकर सामना कर पाए। वह 39 रन बनाकर नाबाद रहे।

श्रीलंका ने इसके जवाब में स्टंप उखड़ने तक तीन विकेट पर 164 रन बनाकर कुल 74 रन की बढ़त हासिल कर ली है। संगकारा 81 रन बनाकर क्रीज पर हैं जबकि उनके साथ दूसरे छोर पर थिलन समरवीरा हैं जिन्होंने 13 रन बनाए हैं। पिच से शुरू में तेज गेंदबाजों को मदद मिल रही थी और ऐसे में पाकिस्तान का टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला गलत साबित हुआ। उसने पहले सात ओवर में ही 19 रन पर चार विकेट गंवा दिए थे जिससे वह आखिर तक नहीं उबर पाया।

श्रीलंका ने भी सलामी बल्लेबाज मालिंडा वर्णपुरा (11) का विकेट जल्दी गंवा दिया जिन्हें उमर गुल ने एलबीडब्ल्यू आउट कियालेकिन इसके बाद संगकारा और थिलन परानविताना (26) ने दूसरे विकेट के लिए 54 रन की साझेदारी की। ऑफ स्पिनर सईद अजमल ने परानविताना को विकेटकीपर कामरान अकमल के हाथों कैच आउट कराकर यह साझेदारी तोड़ी।

संगकारा ने पूर्व कप्तान महेला जयवर्धने के साथ भी अर्धशतकीय (51) भागीदारी निभाई लेकिन जब लग रहा था कि यह जोड़ी पाकिस्तान के लिए घातक हो सकती है तब अजमल ने जयवर्धने (19) को पवेलियन भेजकर अपनी टीम को कुछ राहत दिलाई। संगकारा ने हालांकि एक छोर संभाले रखा। उन्होंने अब तक 126 गेंद का सामना करके सात चौके लगाए हैं।

इससे पहले पाकिस्तान को फिर से बल्लेबाजों के कारण शर्मसार होना पड़ा। गाले में पहले टेस्ट मैच में भी बल्लेबाजों ने उसे धोखा दिया था। तब उसे चौथे दिन जीत के लिए 97 रन चाहिए थे लेकिन उसने 46 रन के अंदर आठ विकेट गंवा दिए और उसे 50 रन से हार झेलनी पड़ी थी।

पाकिस्तान ने श्रीलंका के खिलाफ अपना न्यूनतम स्कोर बनाया। इससे पहले गाले में दूसरी पारी में बनाया गया 117 रन उसका सबसे कम स्कोर था। उसके आठ बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचने में असफल रहे जबकि मलिक के बाद दूसरा सबसे बड़ा स्कोर फावद आलम का था जिन्होंने 81 मिनट में 16 रन बनाए।

गाले में पहली पारी में 71 रन पर चार विकेट लेकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले कुलशेखरा ने 15 गेंद के अंदर तीन विकेट लेकर पाकिस्तानी शीर्ष क्रम को झकझोरा। उन्होंने दूसरे ओवर में ही खुर्रम मंजूर को विकेटकीपर तिलकरत्ने दिलशान के हाथों कैच कराकर पाकिस्तान को पहला झटका दिया।

पाकिस्तानी कप्तान यूनुस खान अगले ओवर में थुषारा की ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद अपने विकेटों पर मारकर खाता खोले बिना पवेलियन लौटे। कुलशेखरा ने इसके बाद पहले टेस्ट मैच में शतक जमाने वाले मोहम्मद यूसुफ (10) को प्वाइंट पर रंगना हेराथ के हाथों कैच कराकर श्रीलंका को महत्वपूर्ण सफलता दिलाई जबकि मिसबाह उल हक ने कुलशेखरा की गेंद पर दिलशान को कैच थमाया।

मलिक ने कुलशेखरा पर दो और तुषारा पर एक चौका जड़कर हाथ खोले लेकिन आलम का विकेट गिरने से उन्हें फिर से रक्षात्मक रवैया अपनाना पड़ा। आलम ने एंजेलो मैथ्यूज की गेंद पर अपना एकमात्र चौका लगाया लेकिन अगली गेंद पर वह एलबीडब्ल्यू आउट हो गए। थुषारा जब दूसरे स्पैल के लिए आए तो उन्होंने अकमल (9) को पवेलियन भेजकर पाकिस्तान का स्कोर छह विकेट पर 67 रन कर दिया। मेंडिस ने पाकिस्तानी पारी समेटने में देर नहीं लगाई। उन्होंने मोहम्मद आमेर और अजमल को लगातार गेंद पर आउट किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ताश के पत्तों की तरह ढही पाक पारी