class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न्यायिक आयोग की रिपोर्ट परिजनों को अस्वीकार

न्यायिक आयोग की रिपोर्ट परिजनों को अस्वीकार

कश्मीर के शोपियां कांड की जांच के लिए गठित किए गए न्यायिक आयोग की रिपोर्ट को पीड़ित युवतियों के परिजनों ने खारिज कर दिया है। इस रिपोर्ट में पीड़ित युवतियों के परिवार के सदस्यों की भूमिका की भी जांच करने की बात कही गई है। साथ ही आयोग ने स्थानीय पुलिस अधिकारियों पर सबूत मिटाने के भी आरोप लगाए हैं।

पीड़िता निलोफर जान और आसिया जान के परिजनों ने एकसदस्यीय सेवानिवृत न्यायाधीश मुजफ्फर जान आयोग की रिपोर्ट को पीड़ितों का चरित्र हनन करने वाला करार दिया है। शुक्रवार को यह रिपोर्ट सार्वजनिक की गई थी।

परिजनों का कहना है कि आयोग ने अपनी रिपोर्ट में यह कहकर पीड़ित युवतियों का चरित्र हनन किया है कि निलोफर के पति के चरित्र और इस मामले में उनकी संलिप्तता की जांच होनी चाहिए। परिजनों ने न्यायमूर्ति जान के खिलाफ भी कार्रवाई की धमकी दी है।

इस बीच, शोपियां प्रदर्शन समिति ने भी ने भी आयोग की रिपोर्ट को खारिज कर दिया है। शोपियां कांड के बाद गठित की गई इस समिति ने रिपोर्ट को मामले को दबाने का प्रयास बताया है।

कश्मीर बार एसोसिएशन ने जान आयोग की रिपोर्ट को किचन रिपोर्ट बताया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष मियां कयूम ने एक बयान जारी कर कहा कि आयोग ने पीड़ितों के परिजनों के चरित्र पर ऊंगली उठाई है। यह आयोग की जांच का बिन्दु ही नहीं था। रिपोर्ट में दोषियों की पहचान नहीं की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:न्यायिक आयोग की रिपोर्ट परिजनों को अस्वीकार