class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुआवजे की मांग को लेकर किसान धरने पर

उत्तर प्रदेश की में लखनऊ जिले के भरवारा गांव के किसान अपनी अधिग्रहीत भूमि का मुआवजा नहीं मिलने के कारण अनिश्चितकालीन धरने पर हैं।

भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले गत 28 जून से धरने पर बैठे किसानों का आरोप है कि राज्य परियोजनाओं के तहत अधिग्रहीत जमीन का मुआवजा उन्हें नहीं मिला। यूनियन के वरिष्ठ मंडल उपाध्यक्ष प्रेम सिंह यादव ने कहा कि जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मान लेती तब तक धरना चलता रहेगा। किसानों का कहना है कि जिला प्रशासन ने 9.88 लाख प्रति बीघा समझोता किया है यह किसानों को मान्य नहीं है क्योंकि जिन ग्रामों की 75 प्रतिशत जमीन गई है उनका भी प्रतिनिधि इस समझोते में शामिल नहीं था। मात्र दो किसान बैठकर 500 बीघे जमीन का फैसला नहीं ले सकते यह न्याय संगत नहीं है।

उन्होंने दावा किया कि जिस कमेटी से जिला प्रशासन ने समझोता किया है वह न तो रजिस्टर्ड है और न ही किसानों ने उसका चयन किया है। किसानों का कहना है कि जिन ग्रामों की भूमि अधिग्रहित की गई है उनका सम्पूर्ण विकास किया जाए विस्थापित परिवार जिसकी जितनी भूमि गई उस अनुपात में एक प्लाट दिया जाए विस्थापित परिवार के एक सदस्य को उसकी कार्यक्षमता के अनुसार नौकरी दी जाए किसानों को मुआवजा बाजार दर पर दिया जाए व कुएं पेडों टूबबेल फसलों,पोल तारों का भी भुगतान किया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुआवजे की मांग को लेकर किसान धरने पर