class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चीन की रक्षा तैयारियों पर सतर्क रहने की जरूरतः भारत

चीन की रक्षा तैयारियों पर सतर्क रहने की जरूरतः भारत

चीन की रक्षा तैयारियों से होने वाले खतरों के बारे में सबसे बेबाक बयान देते हुए भारत ने कहा है कि चीन के रक्षा आधुनिकीकरण पर सावधानी से निगाह रखने की जरूरत है।

जम्मू कश्मीर में चीन और पाकिस्तान द्वारा गैर कानूनी ढंग से कब्जा किए गए क्षेत्र के जरिए इन दोनों देशों के बीच कनेक्टिविटी बढ़ने को भारतीय रक्षा प्रतिष्ठान ने देश के लिए सीधा सैन्य प्रभाव वाला घटनाक्रम माना है।

रक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को जारी अपनी वार्षिक रिपोर्ट में कहा कि वह चीन को अपनी रक्षा नीति और रुख में अधिक पारदर्शिता लाने के लिए बातचीत करेगा लेकिन साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा, क्षेत्रीय अखंडता और भारत की प्रभु सम्पन्नता को बचाने के लिए सभी जरूरी उपाय भी करेगा।

रक्षा मंत्रालय की यह चिंता ऐसे समय सामने आई है जब पूर्वी क्षेत्र में भारतीय सेना का जमावड़ा बढ़ाया जा रहा है और लद्दाख से लेकर अरूणाचल तक सैन्य ढांचे को भी मजबूत बनाने की ओर ध्यान दिया जा रहा है। हाल ही में चीन की सीमा से लगे इलाके में तेजपुर के वायु सेना स्टेशन पर देश के अग्रिम पंक्ति के लडाकू विमान सुखोई 30 एमकेआई की भी तैनाती की गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चीन की रक्षा तैयारियों पर सतर्क रहने की जरूरतः भारत