class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीतिक विद्वेष में राजीव संस्थान की जमीन वापस लीः जगदंबिका

कांग्रेस के सांसद जगदंबिका पाल ने गुरुवार को लोकसभा में आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश की मायावती सरकार ने राजनीतिक विद्वेष के कारण अमेठी में राजीव गांधी पेट्रोलियम संस्थान को दी गई भूमि को वापस लेने का फैसला किया है।

पाल ने शून्यकाल में यह मामला उठाते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने कानून बनाकर राजीव गांधी पेट्रोलियम संस्थान खोलने का निर्णय लिया और अब उत्तर प्रदेश सरकार ने इस संस्थान को आबंटित 95 एकड़ भूमि को वापस लेने का फैसला किया है।उन्होंने कहा कि इस संस्थान में पढ़ाई शुरू हो चुकी है और अभी यह फिरोज गांधी पोलिटेक्निक परिसर में किराए के भवन में चल रहा है। इतनी प्रगति के बाद उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा इस संस्थान की भूमि वापस लिए जाने का निर्णय राजनीतिक प्रतिशोध जैसा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि रायबरेली में भी रेल कोच फैक्ट्री लगाने के लिए दी गई जमीन वापस ले ली गई। दरअसल राज्य सरकार विकास की योजनाओं को भी राजनीतिक दृष्टि से देख रही है और जानबूझकर अड़चन पैदा कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राजनीतिक विद्वेष में राजीव संस्थान की जमीन वापस लीः जगदंबिका