class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

12 वर्षीय अमृता 21 वाद्ययंत्र बजाने में माहिर

प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती। गरीबी अमीरी गांव शहर के बंधन प्रतिभा को अंकुरित होने से नहीं रोक सकते।

उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के एक छोटे से गांव भगुआ में कृषक किसान अशोक सिंह की 12 वर्षीय पुत्री अमृता सिंह एक ऐसी ही अद्भुत प्रतिभा है जिसने ग्रामीण पृष्ठभूमि में रहकर भी अपनी कला को नया आयाम दिया।

अमृता को संगीत वाद्य में दक्षता प्राप्त है और वह आश्चर्यजनक रुप से 21 वाद्य यंत्र को बजाने में निपुण हो चुकी है।
प्रदेश स्तरीय बाल प्रतिभा सम्मान 2008 से नवाजी जा चुकी अमृता ने बिना किसी गुरु के बचपन से ही वाद्य यंत्र बजाने शुरु किए और उसमें महारथ हासिल की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:12 वर्षीय अमृता 21 वाद्ययंत्र बजाने में माहिर