class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

11वीं योजना पर भी मंदी की काली छाया

11वीं योजना पर भी मंदी की काली छाया

ग्यारहवीं पंचवर्षीय योजना के लक्ष्य विश्व आर्थिक मंदी से प्रभावित हो सकते हैं, इसलिए योजना आयोग इस योजना की मध्यवर्ती समीक्षा कर रहा है। मध्यवर्ती समीक्षा के बाद संशोधित लक्ष्यों और प्राथमिकताओं को आयोग की जनवरी 2010 में होने वाली पूर्ण बैठक के सामने रखा जाएगा।

मनमोहन सरकार के दूसरे कार्यकाल में पुनर्गठित योजना आयोग की गुरुवार को बैठक हुई, जिसमें सदस्यों ने योजना पर सामान्य रूप से विचार-विमर्श किया।

बैठक के बाद आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. मोंटेक सिंह आहलूवालिया ने कहा कि विश्व आर्थिक संकट के कारण योजना की मध्यवर्ती समीक्षा और आवश्यक हो गया है ताकि योजना लक्ष्यों का वास्तविक निर्धारण किया जा सके।

आयोग के सूत्रों के अनुसार जिस समय 11वीं योजना तैयार की गई थी उस समय विश्व अर्थव्यवस्था पर कोई संकट नहीं था, जबकि पिछले एक वर्ष से हालात बदल गए है। अब योजना अवधि में नौ प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि दर का लक्ष्य यथार्थपरक नहीं रह गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:11वीं योजना पर भी मंदी की काली छाया