class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जाली नोटों की तस्करी मामले में 5 गिरफ्तार

जाली नोटों की तस्करी मामले में 5 गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने राजौरी गार्डन इलाके से पांच लोगों को गिरफ्तार कर जाली नोटों की तस्करी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करने का दावा किया है। पुलिस ने इन लोगों से दस लाख 57 हजार रुपये के भारतीय नोट बरामद किए हैं।

पुलिस सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान हापुड के शान मोहम्मद उर्फ शानू, मोहम्मद नईम उर्फ साजिद और मोहम्मद शाहरुख उर्फ छोटा तथा दिल्ली के विपिन गुप्ता और ओमवीर सिंह के रूप में की गई है।

ये सभी लगभग 22 साल की उम्र के हैं। ये सभी पाकिस्तान और नेपाल से भारत की जाली मुद्रा की तस्करी करते थे। जाली नोटों के अलावा उनके कब्जे से 25 हजार रुपये के असली नोट, मोटरसाइकिल, सूटकेस, कंप्यूटर और एक स्कैनर भी बरामद किया गया है।

पुलिस उपायुक्त (अपराध शाखा) नीरज कुमार ने संवाददाताओं को बताया कि हापुड के रहने वाले तीनों व्यक्ति गत तीन वर्षों से इस धंधे में लिप्त थे। कुमार ने बताया कि शुरू में उन्होंने रेलगाड़ियों के जरिए नकली नोटों की तस्करी की उसके बाद विमान से तथा यह पहली बार है जब उन्होंने सड़क मार्ग से अपने काम को अंजाम दिया, लेकिन इस बार वे पकडे¸ गए। उन्होंने गत 23 मई को आसिफ नाम के अपने एक साथी की यह समझकर हत्या कर दी थी कि वह उनकी मुखबिरी करता है।

कुमार ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि गिरोह के सदस्य नकली भारतीय मुद्रा के साथ नेपाल से गोरखपुर के रास्ते भारत में दाखिल हो रहे हैं। इससे पहले पुलिस का एक अधिकारी नकली ग्राहक के रूप में उनसे 46 हजार रुपये की डील कर चुका था। जब आरोपी वापस नेपाल जा रहे थे तो उन्होंने फिर उसी अधिकारी को बुलाया। पुलिस ने इस दौरान उन्हें दबोंच लिया। उपायुक्त ने बताया कि इनके पास से बरामद 500 रुपये के नोट ऐसे थे कि उन्हें आम व्यक्ति आसानी से पहचान नहीं सकता था। कुमार ने बताया कि विपिन और ओमवीर पिछले दो वर्षों से रोहिणी के सैक्टर.22 में भी नकली नोट छापने का धंधा कर रहे थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जाली नोटों की तस्करी मामले में 5 गिरफ्तार